संतश्री गयाप्रसाद जी महाराज का दो दिवसीय पुण्‍यतिथि महोत्‍सव कल से

संतश्री गयाप्रसाद जी महाराज का दो दिवसीय पुण्‍यतिथि महोत्‍सव उनके गोवर्धन स्‍थित समाधि स्‍थल पर आयोजित किया जा रहा है।

श्रीगिरिराज तलहटी में ब्रज वसुन्‍धरा की अनुपम विभूति परमसन्‍त श्री गयाप्रसाद जी महाराज की 24वीं पावन पुण्‍यतिथि का विरहोत्‍सव उनके पवन समाधि स्‍थल पर 30 अगस्‍त 2018 के समस्‍त भक्‍त और ब्रजवासियों द्वारा श्रद्धापूर्वक मनाया जा रहा है।

संतश्री की समाधि पर विरहोत्‍सव के आयोजन की व्‍यवस्‍था में लगे बाबा श्रीकृष्‍णदास बालयोगी व बाबा श्रीशंकरशरणदास जी महाराज ने सार्वजनिक आमंत्रण देते हुए बताया कि इसके अंतर्गत 29 अगस्‍त से 30 अगस्‍त तक अनेक भक्‍तों के द्वारा अखंड श्री हरिनाम सकीर्तन एवं भोजन-भंडारे का आयोजन भी किया गया है।

उनहोंने कहा कि हम श्री गयाप्रसाद जी महाराज की 124वीं पुण्‍यतिथि के इस पावन उत्‍सव में सभी भक्‍तों व श्रद्धालुओं का स्‍वागत करते हैं।

संतश्री गयाप्रसाद ने अपने जीवन के अंतिम 65 साल गिरिराज की तलहटी में झाड़ू लगाते हुए गुजार दिए

ब्रज संत शिरोमणि पं. गया प्रसाद महाराज की कृष्ण-कन्हैया से अलौकिक भक्ति की इस कलियुग में शायद ही कोई और मिसाल हो। उन्होंने अपने जीवन के अंतिम 65 साल गिरिराज की तलहटी में झाड़ू लगाते हुए गुजार दिए। इस दौरान उनके मुख से नटखट नंदलाल के हठीले अंदाज का जिक्र सुन लोग भावविह्वल हो उठते। हमें गर्व है कि इस महान संत ने हाथरस की धरती पर जहां ज्ञान अर्जित किया, वहीं बांटा भी। यहीं रासलीला देख भगवान कृष्ण में ऐसी लौ लगी कि गोवर्धन पहुंच गए और फिर घर-परिवार को मुड़कर नहीं देखा। जीवनपर्यत गिरिराज की सेवा में ही लीन रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »