ब्रिटिश सांसद का फोटो सहित ट्वीट, कश्‍मीर मुद्दे को लेकर उनसे मिलने आए कांग्रेस नेता

नई दिल्‍ली। ब्रिटेन की लेबर पार्टी के सांसद जेरेमी कॉर्बिन के एक ट्वीट के बाद भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना ने कांग्रेस पर निशाना साधा है.
लेबर पार्टी के सांसद जेरेमी कॉर्बिन ने गुरुवार को एक ट्वीट कर दावा किया कि कांग्रेस ओवरसीज का प्रतिनिधिमंडल उनसे मिलने आया. इस दौरान कश्मीर में मानवाधिकार से जुड़े मुद्दों पर भी चर्चा हुई.
कॉर्बिन ने लिखा कि ‘भारतीय कांग्रेस पार्टी के यूके के प्रतिनिधियों के साथ एक बहुत ही अच्छी बैठक हुई जहां हमने कश्मीर में मानवाधिकारों की स्थिति पर चर्चा की.
इतने लंबे समय के लिए इस क्षेत्र को नुकसान पहुंचाने वाले हिंसा और भय को समाप्त करना चाहिए.’
कॉर्बिन के ट्वीट में जो लोग कथित तौर पर कांग्रेस के नेता बताए जा रहे हैं, उनमें से एक की पहचान ओवरसीज कांग्रेस के कथित अध्यक्ष कमल धालीवाल के रूप में की जा रही है. हालांकि हम इस जानकारी की पुष्टि नहीं कर रहे हैं.
बीजेपी ने कांग्रेस पर साधा निशाना
जेरेमी के इस ट्वीट के बाद बीजेपी ने कांग्रेस पर हमला बोला. जेरेमी को ट्वीट को कोट करते हुए बीजेपी ने लिखा- ‘भयावह! कांग्रेस भारत के लोगों को समझा रही है कि इसके नेता विदेशी नेताओं को भारत के बारे में क्या बता रहे हैं. इस शर्मनाक शरारत के लिए भारत कांग्रेस को करारा जवाब देगा!’
वास्तविकता की जांच परख करनी चाहिए: प्रियंका चतुर्वेदी
वहीं शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने इस मुद्दे पर ट्वीट किया. उन्होंने लिखा कि ‘वाह! तो
कांग्रेस महसूस करती है कि जम्मू और कश्मीर में उनके हस्तक्षेप के लिए ब्रिटेन और अन्य देशों के प्रतिनिधिमंडल को ले जाना बिल्कुल ठीक है? अन्य देशों को घरेलू मामलों में हस्तक्षेप करने के लिए कह रहे हैं? इससे ज्यादा शर्मनाक बात क्या है!’
प्रियंका ने कहा कि ‘तो कांग्रेस कश्मीर में बीडीसी चुनावों का बहिष्कार करेगी लेकिन अन्य देशों के साथ भारत के आंतरिक नीतिगत निर्णयों में हस्तक्षेप करने के लिए देगी?
इसके अलावा अधिकांश देशों ने Article 370 को भारत का घरेलू मामला बताया है. वास्तविकता की जांच परख करनी चाहिए.’

कांग्रेस ने दी सफाई
कांग्रेस पार्टी के प्रतिनिधिमंडल से मिलने के बाद कश्मीर को लेकर ब्रिटिश नेता के विवादित बयान ने तूल पकड़ लिया है। बीजेपी द्वारा इस मामलें में विपक्षी दल पर हमलावर होने के बाद कांग्रेस पार्टी ने अपनी सफाई दी है।
कांग्रेस के सीनियर नेता आनंद शर्मा ने कहा कि 6 अगस्त के अपने प्रस्ताव में कांग्रेस पार्टी ने साफ कर दिया था कि जम्मू-कश्मीर से जुड़ा कोई भी विषय या घटना भारत का आतंरिक मामला है।
आनंद शर्मा ने सफाई देते हुए कहा, ‘यह मामला हमारे ध्यान में आया है। हम गलत ढंग से पार्टी का प्रतिनिधित्व करने को देखकर चकित हैं। इस पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का स्टैंड बिल्कुल साफ और अडिग है। 6 अगस्त को कांग्रेस पार्टी ने प्रस्ताव पास किया था कि जम्मू-कश्मीर से जुड़ा कोई भी मुद्दा पूरी तरह से भारत का आंतरिक मामला है।’
उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी का इस मामले में साफ कहना है कि किसी भी अन्य व्यक्ति या समूह का इससे कोई लेना-देना नहीं है। हम इस मामले में बाहरी व्यक्ति के किसी भी दावे को पूरी तरह खारिज करते हैं। हम यह बात लेबर पार्टी को भी साफ करना चाहते हैं। जम्मू कश्मीर को लेकर कांग्रेस की स्थिति स्पष्ट है। देश के भीतर हमारे मतभेद हो सकते हैं, लेकिन कोई भी विषय या घटना, जो जम्मू-कश्मीर राज्य से संबंधित है, वह पूरी तरह भारत का आंतरिक मामला है।
‘विरोध जताने के लिए मिले थे’
इसके बाद इंडियन ओवरसीज कांग्रेस की तरफ से भी सफाई देते हुए कहा गया, ‘जेरेमी कॉर्बिन के साथ हमारी मुलाकात कश्मीर मामले पर विरोध दर्ज कराने के लिए थी। कश्मीर पर उनकी पार्टी द्वारा पास किए गए प्रस्ताव का विरोध करने के लिए थी। हमने उनसे कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है और बाहरी दखल स्वीकार नहीं की जाएगी।’
इंडियन ओवरसीज कांग्रेस ने कहा कि लोगों का ध्यान अपनी हार से भटकाने के लिए बीजेपी ने बयानों को तोड़-मरोड़ने की कोशिश की है।
‘जवाब देने में विफल बीजेपी’
कांग्रेस पार्टी ने ट्वीट कर खुद बीजेपी पर हमलावर होने की कोशिश की। पार्टी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘बीजेपी आर्थिक सुस्ती, बेरोजगारी का बढ़ना, बैंकिंग संकट और राफेल डील में हुई अनियमितताओं पर एक सवाल का भी जवाब नहीं दे सकी। उन्होंने सच को छिपाने के लिए झूठ को फलाने का काम किया। अब वे अपने प्रॉपेगैंडा के पीछे नहीं छिप सकते हैं।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »