तुम्हारा प्यार लड्डुओं का थाल है

तुम्हारा प्यार लड्डुओं का थाल है
जिसे मैं खा जाना चाहता हूँ

तुम्हारा प्यार एक लाल रूमाल है
जिसे मैं झंडे-सा फहराना चाहता हूँ

तुम्हारा प्यार एक पेड़ है
जिसकी हरी ओट से मैं तारों को देखता हूँ

तुम्हारा प्यार एक झील है
जहाँ मैं तैरता हूँ और डूबा रहता हूँ

तुम्हारा प्यार पूरा गाँव है
जहाँ मैं होता हूँ।

एक स्त्री के कारण तुम्हें मिल गया एक कोना

एक स्त्री के कारण तुम्हें मिल गया एक कोना
तुम्हारा भी हुआ इंतजार

एक स्त्री के कारण तुम्हें दिखा आकाश
और उसमें उड़ता चिड़ियों का संसार

एक स्त्री के कारण तुम बार-बार चकित हुए
तुम्हारी देह नहीं गई बेकार

एक स्त्री के कारण तुम्हारा रास्ता अँधेरे में नहीं कटा
रोशनी दिखी इधर-उधर

एक स्त्री के कारण एक स्त्री
बची रही तुम्हारे भीतर।
यह एक तस्वीर है

यह एक तस्वीर है
जिसमें थोड़ा-सा साहस झलकता है

और गरीबी ढँकी हुई दिखाई देती है
उजाले में खिंची इस तस्वीर के पीछे

इसका अँधेरा छिपा हुआ है
इस चेहरे की शांति

बेचैनी का एक मुखौटा है
और ये वे आँखें हैं

करुणा और क्रूरता परस्पर घुलेमिले हैं
थोड़ा-सा गर्व गहरी शर्म में डूबा है

लड़ने की उम्र जबकि बिना लड़े बीत रही है
इसमें किसी युद्ध से लौटने की यातना है

और ये वे आँखें हैं
जो बताती हैं कि प्रेम जिस पर सारी चीजें टिकी हैं

कितना कम होता जा रहा है
आत्ममुग्धता और मसखरी के बीच

आत्ममुग्धता और मसखरी के बीच
कई तस्वीरों की एक तस्वीर

जिसे मैं बार-बार खिंचवाता हूँ
एक बेहतर तस्वीर खिंचने की
निरर्थक-सी उम्मीद में।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »