TRP स्कैम: लखनऊ पुलिस ने केस दर्ज कर CBI को सौंपा

लखनऊ। टेलीविज़न रेटिंग प्वॉइंट्स यानी TRP के साथ छेड़छाड़ के मामले में CBI ने जाँच करने का फ़ैसला किया है.
समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार CBI ने लखनऊ पुलिस से केस को अपने हाथों में लेने के बाद FIR दर्ज कर ली है.
यहां यह बताना ज़रूरी है कि सबसे पहले आठ अक्टूबर को मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस करके दावा किया था कि मुंबई में कुछ न्यूज़ चैनल लोगों को पैसे देकर अपने चैनल की टीआरपी बढ़ा रहे हैं.
उन्होंने इस मामले में रिपब्लिक टीवी समेत महाराष्ट्र के दो छोटे चैनलों का नाम लिया था और कहा था कि चार लोग गिरफ़्तार भी किए गए हैं. मुंबई पुलिस ने इस मामले में अबतक पाँच लोगों को गिरफ़्तार किया है और कई लोगों को समन भेजकर पुलिस स्टेशन आने के लिए कहा गया है ताकि उनसे पूछताछ हो सके.
अब ख़बर आ रही है कि उत्तर प्रदेश की पुलिस ने भी इस मामले में एफ़आईआर दर्ज की है.
लेकिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले की जाँच सीबीआई से कराने की सिफ़ारिश कर दी जिसके बाद सीबीआई ने मंगलवार को दिल्ली में केस दर्ज कर इस मामले में जाँच की ज़िम्मेदारी ख़ुद ले ली है.
उधर, मुंबई पुलिस की जाँच को बदले की कार्यवाही बताते हुए रिपब्लिक टीवी के मालिक और एडिटर इन चीफ़ अर्णब गोस्वामी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया था लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें बॉम्बे हाईकोर्ट जाने के लिए कहा.
सोमवार को हाईकोर्ट में सुनवाई है जिसमें अदालत ने मुंबई पुलिस से कहा कि अगर वो अर्णब गोस्वामी से पूछताछ करना चाहती है तो पुलिस को पहले समन जारी करना होगा. अदालत ने अर्णब से कहा कि समन मिलने पर उन्हें पुलिस से जाँच में सहयोग करना होगा.
अर्णब ने अदालत से मुंबई पुलिस की एफ़आईआर को रद्द करने की माँग की है और साथ ही इस केस को सीबीआई के हवाले करने की माँग की है.
बॉम्बे हाईकोर्ट ने पाँच नवंबर को अगली सुनवाई करने का फ़ैसला किया है और उसी समय मुंबई पुलिस से जाँच से जुड़े सभी दस्तावेज़ अदालत के सामने पेश करने का आदेश दिया है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *