Twitter पर जाति के खिलाफ अपने रुख को लेकर ट्रोल हुए कमल हासन

चेन्नै। फिल्मों से राजनीति में आए कमल हासन Twitter पर जाति के खिलाफ अपने रुख को लेकर एक वर्ग के निशाने पर आ गये हैं। लोगों ने उन्हें कुछ साल पहले उनकी बेटी श्रुति द्वारा अपनी जाति की पहचान को लेकर दिए बयान की याद दिलाते हुए कहा कि उन्हें पहले अपने घर से सुधार की शुरुआत करनी चाहिए। हासन ने हाल ही में ट्विटर पर लिखा था कि उन्होंने अपनी बेटी के स्कूल नामांकन प्रमाणपत्र में जाति और धर्म का कॉलम भरने से इंकार कर दिया था।
इस पर ट्वीट करते हुए कुछ लोगों ने उनसे पूछा है कि क्या अकेले इस कदम से जाति का मुद्दा समाप्त हो जाएगा। हासन ने ट्वीट किया था, ‘मैंने अपनी दोनों बेटी के स्कूल नामांकन प्रमाणपत्र में जाति और धर्म के कॉलम को भरने से इंकार कर दिया था। यह एकमात्र तरीका है जो अगली पीढ़ी तक जाना चाहिए। लोगों को प्रगति के लिए योगदान देना शुरू कर देना चाहिए। केरल ने इसे लागू करना शुरू कर दिया है।’ उन्होंने कहा, ‘जो ऐसा करते हैं उन्हें जश्न मनाना चाहिए। ’
इसके बाद Twitter पर एक व्यक्ति ने कुछ साल पहले के श्रुति हासन के टीवी साक्षात्कार का कुछ अंश अपलोड किया है जिसमें वह कह रही हैं कि वह ‘आयंगर ’ (वैष्णव संप्रदाय की ब्राह्मण) हैं।
एक अन्‍य व्यक्ति ने लिखा है कि स्कूल के आवेदन में कॉलम नहीं भरने के बावजूद जाति उन्मूलन का आपका पूरा प्रयास विफल है। आपको अपने घर से सुधार शुरू करना चाहिए। जाति नहीं भरना एक समाधान नहीं है। बच्चों को कुछ इस तरीके से बड़ा कीजिये कि वह अपनी जाति के बारे में जान ही न पाएं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »