Sant Nirankari मिशन द्वारा अटल बिहारी वाजपेयी जी को श्रद्धांजलि

मथुरा। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी Sant Nirankari मिशन से काफी प्रभावित थे, वह Sant Nirankari मिशन सा प्यार पूरे देशभर में देखना चाहते थे।

यह कहना है निरंकारी मिशन के स्थानीय प्रवक्ता किशोर “स्वर्ण” का, उन्होंने बताया कि गत दिवस दिल्ली के इन्दिरा गांधी स्टेडियम में आयोजित सर्वदलीय श्रद्धांजलि सभा में Sant Nirankari मंडल के सचिव श्री सी.एल. गुलाटी जी, की अध्यक्षता में एक प्रतिनिधि मंडल ने भाग लेकर एक पत्र द्वारा दिवंगत भारत के पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।

अटल जी के प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा गया कि अटल जी धार्मिक विचारों के तो थे ही परंतु उनमें कट्टरवाद की कड़वाहट कहीं भी देखने को नहीं मिलती थी। वह कहा करते थे कि धर्म हमे ऐसी शिक्षा दे कि दूसरों की सहायता करना हम सबका स्वभाव बन जाए। धर्म हमें बाटनें का नहीं, जोड़ने का काम करे। अटल जी मानने थे कि जहां धर्म है वहां शांति भी होनी चाहिए। हमने विज्ञान तथा टेक्नोलॉजी में तो बहुत उन्नति कर ली है परंतु मानव की मानसिक आवश्यकताओं की ओर ध्यान नहीं दिया। आज जरूरत है हर नागरिक अपने आपको मानव परिवार का अंग समझे और धार्मिक तथा सांस्कृतिक भिन्नताओं को किसी प्रकार भी लड़ाई-झगड़ो अथवा हिंसा का कारण बनने ना दे।

पत्र में यह भी कहा गया कि मिशन का विश्वास है कि अटल जी ने अपने महान विचारों तथा सार्थक योगदान द्वारा अपने आपको अमर कर लिया है। उनके शरीर त्यागने के बाद भी उनका युग जारी रहेगा। वह सचमुच भारत के रतन थे, दूरदर्शिता तथा साहस के लिए प्रशंसा के पात्र थे। वह नम्रता तथा मानवता की जीवन्त मूरत थे।

प्रतिनिधि मंडल ने याद कराया कि अटल जी 1977 में एक बार दिल्ली स्थित संत निरंकारी कॉलोनी आए और निरंकारी मिशन के तत्कालीन मार्गदर्शक बाबा गुरबचन सिंह जी से वार्तालाप करते हुए उन्होंने कहा कि “मैं जो प्रीत-प्यार तथा आदर भाव यहां इस निरंकारी मिशन में देख रहा हूं, मैं इसे देश भर में देखना चाहता हूं।

प्रवक्ता किशोर “स्वर्ण” ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल जी निरंकारी मिशन से काफी प्रभावित थे, वह निरंकारी भक्तों द्वारा एक-दूसरे को प्रदान किए जा रहे प्यार और सत्कार वाला दृश्य पूरे देशभर में देखना चाहते थे। उन्होंने उनदिनों निरंकारी सत्संग में भी भाग लिया था। उस वक्त मथुरा के वेटेरिनरी कालेज से जुड़े प्रारम्भिक निरंकारी श्री खेमराज चड्ढा जी भी मौजुद थे, जो वर्तमान में निरंकारी मंडल के सलाहकार बोर्ड के चेयरमैन हैं।

इधर मथुरा के संत निरंकारी सत्संग भवन पर आयोजित सभा में स्थानीय संयोजक हरविंद्र कुमार ने भी दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल जी के प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि निरंकारी सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज एवं संसार भर में रहने वाले श्रद्धालु भक्त सभी अपनी ओर से शोक व्यक्त करते हैं और प्रार्थना करते हैं कि निरंकार प्रभु परमात्मा हम सबको बल- बुद्धि दे ताकि हम भी अटल जी की भांति प्रीत-प्यार, एकता, शांति तथा धर्मिक सदभाव के सिद्धान्तों पर चल पाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »