कश्‍मीर पर अधीर रंजन के बयान से कांग्रेस की जबर्दस्‍त किरकिरी

नई दिल्‍ली। लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने जम्मू-कश्मीर पर अपने बयानों से पार्टी की जबर्दस्त किरकिरी करवा दी है। उन्होंने आज लोकसभा में कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का आंतिरक मामला है, यह कैसे कहा जा सकता है? उनके इस बयान के खिलाफ सोशल मीडिया पर जबर्दस्त आक्रोश दिख रहा है। ट्विटर पर #ShameOnCongress चल रहा है जिस पर कुछ मिनटों में ही 10 हजार से ज्यादा ट्वीट्स हो चुके हैं।
अधीर ने क्या कहा?
कांग्रेस सांसद ने कहा, ‘हमारे एक प्रधानमंत्री ने शिमला समझौता किया, दूसरे प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने लाहौर समझौता किया और अभी हाल में विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो से कहा कि यह द्विपक्षीय मामला है।’ कांग्रेस सांसद ने पूछा, ‘यह (जम्मू-कश्मीर) अचानक आंतरिक मामला कैसे हो गया?’ उन्होंने अपनी बात दोहराई और कहा कि जब शिमला समझौता, लाहौर समझौता हुआ और माइक पॉम्पियो से हमारे विदेश मंत्री ने कहा कि यह द्विपक्षीय मुद्दा है तो यह अचानक आंतरिक मसला कैसे हो गया?
मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर को आंतरिक मामला मानते हुए इसे विशेष अधिकार देने वाले अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया और राज्य को दो टुकड़ों में बांटकर उन्हें केंद्र शासित प्रदेश घोषित कर दिया।
गौरतलब है कि अधीर रंजन ने ही धारा 370 हटाने और जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधयेक समेत जे एंड के को लेकर सरकार के दो संकल्पों और दो विधेयकों पर विपक्ष की ओर से चर्चा की शुरुआत करते की।
गृह मंत्री अमित शाह का जवाब
इस पर गृह मंत्री ने कहा कि भारत और जम्मू-कश्मीर के संविधान में स्पष्ट है कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। उन्होंने कहा, ‘मामला 1948 में यूएन में पहुंचाया गया था। फिर भूतपूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाधी ने जो शिमला सझौता किया था, उसका जिक्र किया। उन्होंने एक तरह से इस सदन की क्षमता पर सवाल उठाया है कि यह सदन इस बिल पर चर्चा कर सकता है कि नहीं? जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। इसकी स्पष्टता भारत और जम्मू-कश्मीर के संविधान में है। जम्मू-कश्मीर के संविधान में भी इसका स्पष्ट जिक्र है।’
कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र की नजर है: अधीर
कांग्रेस सासंद ने कहा कि ‘आपने कहा कि कश्मीर आंतरिक मामला है, लेकिन 1948 से संयुक्त राष्ट्र की नजर यहां पर बनी हुई है।’ अधीर के इस बयान को बीच में काटते हुए गृह मंत्री ने कहा पूछा कि क्या कांग्रेस का यह स्टैंड है कि यूनाइटेड नेशन कश्मीर को मॉनिटर कर सकता है? इस पर कांग्रेस सांसद बैकफुट पर आ गए और कहा कि वह सिर्फ स्पष्टीकरण चाहते हैं। वह सिर्फ जानना चाहते हैं कि स्थिति क्या है?
सोशल मीडिया पर भड़के लोग
बहरहाल, कश्मीर भारत का आंतरिक मामला नहीं है। इस संदर्भ में दिए गए कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी के बयान की ट्विटर पर जबर्दस्त आलोचना हो रही है। ट्विटर हैंडल @PK_universal ने लिखा, ‘ऐसा लगता है कि 2019 की कांग्रेस 1936 की मुस्लीम लीग हो। भारत का अगला जिन्ना कोई गांधी ही होगा!’
@Anu1021996 ट्विटर हैंडल ने लिखा, ‘प्रिय कांग्रेस, याद रखिए कि देश आपको देख रहा है। करोड़ों भारतीयों का एक सपना पूरा हो रहा है तो खलनायक की भूमिका मत निभाइए।’

-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *