असम में दर्दनाक हादसा, भूस्खलन से 20 लोगों की मौत

गुवाहाटी। कोरोना वायरस से जूझ रहे असम में दर्दनाक हादसा हुआ है। लगातार बारिश होने से असम के तीन इलाकों में भूस्खलन होने से 20 लोगों की मौत हो गई है। मरने वालों में महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग भी शामिल हैं। ये हादसे दक्षिणी असम के तीन जिलों कछार, हैलाकांडी और करीमगंज में हुए। इन हादसों में गंभीर रूप से घायल हुए 9 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
इस दर्दनाक घटना में कई लोग ऐसे हैं जो एक ही परिवार के हैं। मंगलवार तड़के जब लोग अपने घरों में सो रहे थे, उसी वक्त इस कुदरती आपदा ने झकझोर उन्हें रख दिया। भूस्खलन होने के दौरान वे भाग भी नहीं सके। लोगों के पूरे घर तबाह हो गए और पूरा परिवार मौके पर ही खत्म हो गया।
जिंदा दफन हुआ पूरा परिवार
करीमगंज जिले के कालीगंज इलाके में मंगलवार तड़के भूस्खलन हुआ। यह इलाका बांग्लादेश बॉर्डर से जुड़ा है। यहां पर छह लोग पहाड़ी के मलबे के नीचे दब गए। छह लोगों में पांच मृतक एक ही परिवार के थे। घटना के समय वे अपने घर में सो रहे थे, तभी घर समेत सभी लोग जिंदा दफन हो गए।
पलक झपकते ही मलबे में तब्दील हुआ घर
दूसरी घटना कछार (Chachar) जिले के कोलापुर गांव में जयपुर थानांतर्गत हुई। यहां पर सात लोग भूस्खलन का शिकार हुए। बताया जा रहा है कि मरने वाले तीन परिवारों के थे। यहां पर घटना तड़के पांच बजे हुई और मरने वाले सभी उस दौरान अपने घरों में सो रहे थे। पहाड़ी का एक बड़ा हिस्सा टूटकर उनके घर के ऊपर गिरा और पलभर में घर मलबे में तब्दील हो गया।
बच्चों की निकली लाशें तो दहल गए दिल
तीसरी घटना हैलाकांडी जिले में हुई। यहां के भटाटबाजार गांव में सात लोगों की मौत हुई है। इन सात लोगों में से छह लोग एक ही परिवार के थे। दिल को झकझोर देने वाली बात यह है कि छह लोगों में से चार बच्चे थे। जब उनकी लाश मलबे से बाहर निकाली गई तो लोगों के दिल दहल गए।
लगातार हो रही भारी बारिश
बंगाल की खाड़ी से दक्षिण-पश्चिम हवाओं के तेज प्रवाह के कारण और अन्य भौगोलिक वजहों से असम में बहुत भारी बारिश हो रही है। ज्यादातर स्थानों पर भारी बारिश हो रही है। आपको बता दें कि पूर्वोत्तर भारत में अधिकतम बारिश मई में और उसके बाद जून में होती है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *