आज की स्वीटू, हो सकती है कल की #MeToo: प्रीति जिंटा

मुंबई। अभिनेत्री प्रीति जिंटा इन दिनों #MeToo अभियान पर दिए एक बयान को लेकर खबरों में हैं। यह बहुत जरूरी है कि #MeToo अभियान के तहत जो भी बयान दिए जाएं, उनमें गंभीरता, संजीदगी और जिम्मेदारी का ध्यान रखा जाए, लेकिन यह भी जरूरी है कि किसी से हुई बातचीत में क्या बयान है और क्या हंसी-मजाक उसको समझा जाए।
दरअसल, 12 नवंबर की दोपहर 1 बजे से फिल्म ‘भैयाजी सुपरहिट’ के प्रमोशन के लिए प्रीति जिंटा, अरशद वारसी और फिल्म के निर्देशक नीरज पाठक का इंटरव्यू होना था। इस इंटरव्यू के लिए प्रीति करीब 2:30 बजे के बाद पहुंची थीं। जिस इंटरव्यू का बयान सुर्खियों में है, वह 3 बजे के करीब शुरू हुआ। यह इंटरव्यू पूरी तरह #MeToo अभियान से जुड़ा था।
इंटरव्यू खत्म हो चुका था और प्रीति इनफॉर्मल बातचीत कर रही थीं, इंटरव्यू के बाद उनके कॉलर पर कैमरे का माइक लगा था और अब प्रीति मस्ती वाले मूड में थीं। वह बार-बार कह रही थीं, ‘अरे यार मेरा यह इंटरव्यू तो पूरी तरह #MeToo अभियान से जुड़ा था।’
पहले मजाक किया फिर माफी मांग ली थी प्रीति ने
प्रीति इस दौरान #MeToo से जुड़ी बातें कर रही थीं, प्रीति इस समय मस्ती-मजाक के मूड में थीं और इसी समय उन्होंने जोर से कहा, ‘आज की स्वीटू, कल की #MeToo हो सकती है।’
प्रीति के इस बात पर वहां मौजूद लोग हंसने लगे, प्रीति को तुरंत एहसास भी हुआ कि उन्होंने कुछ गलत कह दिया है। प्रीति ने तुरंत सफाई दी, ‘फिल्म में मेरा किरदार सपना दुबे ऐसे ही कहती है।’ इसके बाद प्रीति ने सॉरी भी कहा।
सवाल -प्रीति क्या फिल्म इंडस्ट्री महिलाओं के लिए सेफ है?
प्रीति-ऐब्सलूट्ली… यह (फिल्म इंडस्ट्री) किसी और इंडस्ट्री से 100 प्रतिशत ज्यादा सेफ है। हमारी फिल्म इंडस्ट्री में सबकी नजर होती है। दूसरी इंडस्ट्री में तो लोग मीडिया को भी कंट्रोल करते हैं, लेकिन फिल्म इंडस्ट्री में मीडिया को कंट्रोल नहीं किया जाता है। फिल्म इंडस्ट्री बहुत ज्यादा सुरक्षित जगह है। मैं बहुत खुश हूं कि #MeToo अभियान शुरू हुआ है। बस यह ध्यान रखना है कि यह अभियान अनुचित मामलों में कहीं डाइलूटड न हो जाए क्योंकि यह अभियान मेल वर्सेस फीमेल का नहीं है, यह समय अपने घर को साफ करने का है।’
फिल्म इंडस्ट्री में काम करते हुए 20 साल पूरे हो गए हैं, मैं किसी फिल्म परिवार से नहीं आई थी। फिल्म इंडस्ट्री में लोग आपके साथ वैसा ही व्यवहार करते हैं, जैसा व्यवहार आप अपने साथ चाहते हैं। आज तक किसी ने भी मेरे साथ कभी कोई गलत व्यवहार नहीं किया है। लगभग सभी हीरो, निर्माता, निर्देशक, सभी हीरोज की वाइफ भी मेरी दोस्त हैं। मुझे सम्मान हमेशा मिला है, शायद इसकी वजह यह भी है कि मेरी शुरू की लगभग सभी फिल्मों और मेरे पहले विज्ञापन ने भी अच्छी सराहना बटोरी थी। बहुत सारे लोगों को काम के मामले में बहुत संघर्ष करना पड़ता है।’
अपने सिद्धांतों पर चलिए यहां कोई आपको जबरदस्ती पुश नहीं करता है
‘आप अपने सिद्धांतों पर चलिए यहां कोई आपको जबरदस्ती पुश नहीं करता है। #MeToo के तहत जो भी मामले सामने आ रहे हैं, यह जरूरी भी है। पहले आपको समस्या का पता लगाना है, फिर उसका समाधान करना है। हो सकता है इससे चीजें सुधर जाएं, अगर लोग फिल्म इंडस्ट्री को सुरक्षित नहीं मानते तो वह उनकी बेवकूफी है। दूसरी भी तमाम इंडस्ट्री हैं, मैं खुद अब बिजनेस इंडस्ट्री से नाता रखती हूं, मैंने करीब से देखा है बिजनेस इंडस्ट्री को और मैं अच्छी तरह जानती-समझती हूं कि फिल्म इंडस्ट्री सबसे सेफ प्लेस है।’
सवाल- क्या #MeToo अभियान खत्म हो रहा है या अभी शुरू हुआ है?
प्रीति-मुझे लगता है कि अभी तो इसकी (#MeToo) शुरुआत हुई है। यह अभियान अभी खत्म नहीं हुआ है लेकिन जब मैं देखती-सुनती हूं कि किसी महिला की #MeToo की कहानी सुनने के बाद, कोई दूसरी महिला उस पर अपनी गलत टिप्पणी देती है और दूसरी महिलाओं की कहानी को बकवास बताती हैं तो मुझे दुःख होता है। लगता है यह महत्वपूर्ण अभियान कहीं डाइलूटड न हो जाए। मैं हमेशा उन महिलाओं के साथ हूं, जिनके साथ भी किसी भी तरह का यौन शोषण हुआ है, वह बड़ी हिम्मत जुटाकर बात कर रही हैं, अभी भी कोई देरी नहीं हुई है।’
लोगों से यही प्रार्थना करती हूं बेकार की बातें करके इस अभियान को डाइलूटड न करें
‘मैं लोगों से यही प्रार्थना करती हूं बेकार की बातें करके इस अभियान को डाइलूटड न करें, जो रिलेवेंट मामले हैं वह सामने जरूर रखें। जहां एक तरह कुछ पुरुष हैं, जो अपने पावर का इस्तेमाल करते हैं, वहीं कुछ महिलाएं भी हैं, जो अपनी पॉजिशन का यूज करती हैं। इन दिनों लोग #MeToo पर जोक्स भी भेजते हैं, मुझे भी लोग जोक्स भेजते हैं, इंटरव्यू के दौरान भी पूछते है, मैं कहती हूं एक-दूसरे का साथ दो। कोई यहां पब्लिसिटी के लिए अपनी कहानी नहीं सुनाता है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »