आज जन्‍माष्‍टमी पर लड्डूगोपाल के लिए ऐसे बनाऐं पंजीरी और पंचामृत, लगाऐं भोग

आज जन्‍माष्‍टमी पर भगवान कृष्‍ण यानि अपने लड्डूगोपाल को हम पंजीरी और पंचामृत का भोग सर्वप्रथम लगाते हैं.
भगवान विष्‍णु के अवतार भगवान कृष्ण के जन्‍मदिन पर उनके बालस्‍वरूप का अभिनंदन हम माखन मिश्री और पंजीरी व पंचामृत से भोगा लगाकर करते हैं. उन की पूजा पंचामृत और पंजीरी के बिना अधूरी है. तो अगर आप व्रत हैं तो ये भोग और प्रसाद चढ़ाकर भगवान को प्रसन्न कर मनचाहा फल पा सकते हैं.

कैसे बनाऐं उत्‍तम पंचामृत

पंचामृत बनाने के लिए ये मुख्य 5 चीजें चाहिए होती हैं. जबकि तुलसी और गंगाजल अलग से डाला जाता है.

एक कप दूध
आधा कप दही
1 बड़ा चम्मच शहद
1 चीनी/मिश्री
1 छोटा चम्मच घी

इसके अलावा इसमें गंगाजल और तुलसी के पत्ते

– दूध को एक बड़े बर्तन में डालें और इसमें दही, शहद, गंगा जल व तुलसी पत्ते डालकर मिला लें.
– लीजिए तैयार हो गया पंचामृत.

पंजीरी बनाने के लिए
एक कटोरी गेहूं का आटा
आधा कटोरी चीनी/ गुड़
ड्राईफ्रूट्स इच्छानुसार
कड़ाही या पैन
8-10 तुलसी दल/पत्ते

– मीडियम आंच पर कड़ाही में आटा डालकर 5-10 मिनट तक चलाते हुए भून लें.
– फिर आंच बंद करके इसे ठंडा कर लें.
– भूने आटे को एक कटोरी में निकाल लें फिर इसमें चीनी और तुलसी के पत्ते मिला लें. (आप चाहें तो गुड़ भी टुकड़ों में तोड़कर डाल सकते हैं.)
– इन तीन चीजों से पंजीरी बनती है. आप चाहें तो इसमें मनपसंद ड्राईफ्रूट्स डाल सकते हैं.

तो तैयार कर लीजिए अपने लड्डूगोपाल के स्‍वागत को पंचामृत और पंजीरी, और लगा दें अच्‍छा सा भोग . इसके बाद यह प्रसाद भक्तों में बांट दें.

-Legend News