Govardhan में आरतीस्थल तोड़े जाने के विरोध में उतरे देशभर के तीर्थ पुरोहित

मथुरा। Govardhan में अतिक्रमणरोधी अभियान के तहत एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) के आदेश पर दानघाटी स्‍थित आरती स्थल तोड़े जाने का विरोध अभी तक सेवायतों द्वारा लगातार जारी था, इसमें अब तीर्थ पुरोहितों ने भी अपना विरोध शामिल कर दिया है। Govardhan में प्रशासन की कार्रवाई का विरोध कर रहे सेवायतों के समर्थन में अब अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा भी उतर आई है।
देशभर से मथुरा में जुटे 73 तीर्थों के पुरोहितों ने सोमवार को गोवर्धन के दानघाटी मंदिर परिसर में बैठक की। इसमें मंदिरों के सेवायत भी शामिल हुए। बैठक में तीर्थ पुरोहितों ने आरती स्थल तोड़े जाने पर कड़ी विरोध जाहिर किया।

दानघाटी मंदिर का आरती स्थल तोड़े जाने के विरोध में तीर्थ पुरोहितों ने राधाकुंड परिक्रमा मार्ग पर हरगोकुल मंदिर से पैदल यात्रा निकाली, जो मुकुट मुखार बिंदु मानसी गंगा होती हुई दानघाटी मंदिर पहुंची। इस दौरान सरकार और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

दानघाटी मंदिर के सामने एकत्र होकर पुरोहितों ने चेतावनी दी कि हिंदुओं की आस्था से जुड़े धर्म स्थलों से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं की जाएगी। कहा कि आगे से किसी भी धर्म स्थल को तोड़ने नहीं दिया जाएगा।

दो दिन पहले से जुट रहे हैं तीर्थपुराहित

मथुरा में श्री माथुर चतुर्वेद परिषद के शताब्दी वर्ष में प्रवेश के अवसर पर अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित महासभा की कार्यकारिणी और कार्यसमिति की दो दिवसीय बैठक शनिवार से शुरू हुई थी, इसमें प्रयागराज, काशी समेत देश के 73 तीर्थों के पुरोहित शामिल हुए।
बैठक के शुभारंभ पर तीर्थ पुरोहितों ने स्वामीनारायण मंदिर कंपू घाट (बंगाली घाट) से भव्य शोभायात्रा निकाली जो यमुना के विभिन्न घाटों से होते हुए विश्राम घाट पहुंची। यहां तीर्थ पुरोहितों ने मां यमुना का पूजन किया। इस दौरान यमुना तट मंत्रोच्चारण से गूंजा उठा। घंटे-घड़ियाल व शंख की ध्वनि के बीच यमुना पर अलौलिक दृश्य दिखाई दे रहा था।

-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *