राम मंदिर के भूमि पूजन का मुहूर्त निकालने वाले ज्‍योतिषी को धमकी

नई दिल्‍ली। राम मंदिर के भूमि पूजन के मुहूर्त पर चल रहा विवाद कम होने का नाम नहीं हो रहा है। कल पीएम नरेंद्र मोदी भूमि पूजन करेंगे इस बीच भूमि पूजन का मुहूर्त निकालने वाले वाले ज्‍योतिषी को धमकी मिलने की खबर है। ज्‍योतिषी ने बताया है कि उन्हें फोन पर धमकी मिल रही है। बता दें कि भूमि पूजन की तारीख को लेकर काफी विवाद हो रहा है। शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने भूमि पूजन के तय वक्त को शुभ नहीं बताया है। उन्होंने कहा कि 5 अगस्त को दक्षिणायन भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष की द्वितीया तिथि है। शास्त्रों में भाद्रपद मास में गृह, मंदिरारंभ कार्य निषिद्ध है। उन्होंने इसके लिए विष्णु धर्म शास्त्र और नैवज्ञ बल्लभ ग्रंथ का हवाला दिया।
ज्‍योतिषी को आए कई धमकी भरे कॉल
कर्नाटक के बेलगावी में रहने वाले ज्‍योतिषी आचार्य गणेश्वर राज राजेश्वर शास्त्री द्रविड़ को धमकी भरे कई फोन आए हैं। ज्‍योतिषी ने बताया है कि ये कॉल देश के अलग-अलग हिस्सों से आ रही हैं। स्थानीय पुलिस ने ज्‍योतिषी की सुरक्षा के लिए एक कांस्टेबल को भेजा है।
अभी आधिकारिक शिकायत नहीं हुई दर्ज
हालांकि बेलगावी के कमिश्नर ने बताया कि इस बारे में कोई आधिकारिक शिकायत दर्ज नहीं की गई है। चूंकि ज्‍योतिषी को खतरा है इसलिए वहां पुलिस की तैनाती की गई है।
काशी के कुछ लोग भी कर रहे हैं मुहूर्त का विरोध
काशी के कुछ लोग भी मंदिर शिलान्यास को लेकर तय मुहूर्त पर सवाल खड़े कर रहे हैं। संतों और ज्योतिषियों के अनुसार मंदिर के शिलान्यास के लिए तय इस तारीख के मुहूर्त से समय को उस दिन का सबसे अशुभ समय बताया जा रहा है। शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने भी अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट कर मंदिर के शिलान्यास की तय तिथि यानि 5 अगस्त को अशुभ बताया है।
दिग्विजय ने कसा था तंज
मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने मंदिर पूजन के मुहूर्त और गृह मंत्री अमित शाह से लेकर मंदिर के पुजारी के कोरोना संक्रमण को इससे जोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म और हिंदू परंपराओं के उल्लंघन का नतीजा है यह।
पीएम कल करेंगे मंदिर का शिलान्यास
उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन कार्यक्रम शुरू हो चुका है। सुबह 8 बजे से राम अर्चना के साथ हनुमान गढ़ी में पूजा आरंभ हो गई है। बुधवार 5 अगस्त को भूमि पूजन का कार्यक्रम है। पीएम मोदी को रामलला के दर्शन भी करेंगे और ‘पारिजात’ वृक्ष का रोपण भी करेंगे। PM अयोध्या में 3 घंटे तक रहेंगे।
आचार्य गणेश्वर ने दी थी शास्त्रार्थ की चुनौती
हालांकि शिलान्यास का मुहूर्त निकालने वाले आचार्य गणेश्वर राज राजेश्वर शास्त्री द्रविड़ जिन्हें ज्योतिष का प्रख्यात विद्वान माना जाता है और जो काशी के राजघराने के गुरुपरिवार का हिस्सा भी हैं, ने मुहूर्त पर सवाल खड़े करने वालों को चुनौती देते हुए अपने साथ शास्त्रार्थ करने को कहा।
काशी के योग गुरु चक्रवर्ती विजय नावड़ ने कहा, “नक्षत्र विज्ञान के देश के चोटी के विद्वान आचार्य द्रविड़ अत्यंत सूक्ष्म ज्योतिषीय गणना करने के लिए प्रसिद्ध हैं। उनकी इसी प्रसिद्धि के चलते श्रीराम जन्मभूमि न्यास ट्रस्ट ने चातुर्मास काल में ही यथाशीघ्र मुहूर्त निकालने का पंडित गणेश्वर शास्त्री जी से अनुरोध किया था।”
नावड़ कहते हैं, “पंडित गणेश्वर शास्त्री द्रविड़ ने ज्योतिष के दुर्लभ ग्रंथों मुहूर्त चिंतामणि, ज्योतिर्विदाभरण, मुहूर्त पारिजात, राज मार्तंड, पीयूषधारा सहित श्रीकृष्ण यजुर्वेद, अमरकोष, शब्द कल्पद्रुम कोश आदि शास्त्रीय ग्रंथों के आधार पर विशेष परिस्थिति में 5 अगस्त को शुभ मुहूर्त निकाला है।”
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *