अयोध्या में इस साल खास रहेगा दीपोत्सव, लगेगी श्रीराम की प्रतिमा

अयोध्या। धार्मिक नगरी अयोध्या में इस साल का दीपोत्सव खास रहेगा। योगी सरकार जहां कई राष्ट्राध्यक्षों को दीपोत्सव में आमंत्रित करने की योजना बना रही है, वहीं भगवान राम की 221 मीटर ऊंची विशाल प्रतिमा को इसी दिन स्थापित करने का निर्णय भी लिया है। इस संबंध में गुरुवार को जिला प्रशासन ने पूर्व के नोटिफिकेशन को रद्द करते हुए नया नोटिफिकेशन जारी किया। इसमें राम कथा का म्यूजियम, लाइब्रेरी, राम जन्मभूमि मंदिर का इतिहास दर्शाने वाली सामग्री और देश-विदेश की राम लीलाओं से जुड़े दुर्लभ चित्र लगाए जाएंगे।
पिछले माह स्थापित हुई थी कोदंड राम की प्रतिमा
बीते 25 मई को अयोध्या शोध संस्थान के संग्रहालय में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कन्नड़ शैली में निर्मित काष्ठ की 7 फुट की भगवान राम की प्रतिमा अनावरण किया था। जिसे कर्नाटक के कावेरी कर्नाटक स्टेट आर्ट्स एवं क्राफ्ट इंपोरियम से 35 लाख में खरीदा गया है। दुर्लभ कलाकृतियों में शामिल इस प्रतिमा को बनाने में तीन साल का समय लगा था। यह टीकवुड की बनी काष्ठ कला की दुर्लभ कृतियों में से एक है, जिसे 2017 में राष्ट्रपति की ओर से पुरस्कृत भी किया जा चुका है।
सरयू तट पर स्थापित होगी प्रतिमा
सरयू तट पट पर प्रभु राम की 221 मीटर ऊंची विशाल प्रतिमा स्थापित होगी। इसमें 151 मीटर की प्रतिमा होगी, उसके ऊपर 20 मीटर ऊंचा छत्र बनेगा और नीचे 50 मीटर ऊंचा बेस बनेगा। डीएम की ओर से जारी नए नोटिफिकेशन में बताया गया है कि, अयोध्या के पर्यटन विकास एवं सौदर्यीकरण के तहत प्रभु राम की विशाल प्रतिमा के भूतल पर डिजिटल म्यूजियम इंपरप्रिजेंटेशन सेंटर,फूड प्लाजा, लैंड स्केपिंग लाइब्रेरी आदि भी प्रस्तावित है। डीएम ने इससे पहले के क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी के इसी सिलसिले में जारी नोटिफिकेशन को रद्द कर दिया है।
24.38 हेक्टेयर भूमि की होगी खरीद
नए नोटिफिकेशन में 213 लोगों की 24.38हेक्टेयर भूमि को क्रय करने की नोटिस जारी की गई है। कुल 41 हेक्टेयर जमीन में से 24 हेक्टेयर क्षेत्र इस प्राजेक्ट की सीमा में आ रहा है। इसके अलावा इस योजना के अधिग्रहण में 5 मंदिर, 20 खातेदारों के 517 पेड़ व 165 लोंगों के मकान व खाली प्लाट भी आ रहें हैं। इस प्राजेक्ट से प्रभावित होने वाले भूस्वामियों को अपना पक्ष डीएम के समक्ष रखने के लिए 11जुलाई तक का समय दिया गया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »