विकास, खुशहली की ओर पूरे जोश से बढ़ने का यही समय: सद्गुरु जग्गी वासुदेव

कोयंबटूर। ‘हमें देश को उस संभावना की ओर ले जाना चाहिए जिसमें हर इंसान के पास समान अवसर और संभावना हो और उन्हें इस देश में अपने जीवन की पूर्ण अभिव्यक्ति मिले। एक भव्य भारत बनाने में हर किसी की भूमिका है, खासकर इस देश के युवा की – मैं आपसे विनती करता हूं कि आप उठ खड़े हों और सही चीजें करें,’ ईशा फाउण्डेशन के संस्थापक, सद्गुरु ने स्वतंत्रता दिवस के एक प्रेरणादायक वीडियो संदेश में कहा। उन्होंने देशवासियों से अपनी विविधताओं का उत्सव मनाने और भारत के अनोखेपन को कायम रखने का आग्रह किया। ‘हमने यह देश समानता के आधार पर नहीं, बल्कि अपनी विविधता के आधार पर बनाया है। हर तरीके से, हम सबसे रंग-बिरंगे देश हैं। और यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम ऐसे ही बने रहें,’ उन्होंने जोर दिया।

 

सद्गुरु ने महामारी के पश्चात की दुनिया से मिले, भारत के लिए ‘समान अवसर पैदा करने’ के लिए एकजुट होकर देश के निर्माण के अवसर के बारे में बोला, जो दूसरे एशियाई देशों की तुलना में विकास में कम से कम 25 साल पीछे छूट गया है। उन्होंने लोगों पर जोर दिया कि पिछली गलतियों को आगे न खींचें, बल्कि इस मौके की ‘जबरदस्त संभावना’ पर ध्यान केंद्रित करें।

‘जो देश हम हैं, अपनी बुद्धि, अपने ज्ञान, और अपने इतिहास के लिए, और जो सांस्कृतिक ताकत हमारी है, उतना मजबूत आधार हमें दूसरे देशों की मंडली में नहीं मिला है। विकास और खुशहली की ओर पूरे जोश से बढ़ने का यही समय है,’ उन्होंने जोर डाला।

भारतीय युवा के लिए, जिनके बीच वे जबरदस्त प्रचलित हैं, सद्गुरु का एक खास संदेश था। उनको संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘इस देश के युवा को समझना चाहिए कि इस देश का भविष्य आपके कौशल पर, आपकी काबिलियत पर, आपके दृढ़ संकल्प, और इस देश में एक प्रेरित तरीके से आपके काम करने पर निर्भर है।’

भारत, फैली हुई महामारी के बीच, 74वां स्वतंत्रता दिवस एक छोटे स्तर पर मना रहा है। लाल किले का पारंपरिक उत्सव, सामान्य रूप से मौजूद रहने वाले लोगों की तुलना में, सिर्फ एक चौथाई लोगों के लिए खुला है। स्कूलों में भी इसे नहीं मनाया जाएगा और सरकार ने लोगों से घर पर ही रहकर इसे मनाने, और विशाल जन समूह बनाने से बचने का अनुरोध किया है।

  • Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *