अमेरिका में कोरोना से तीसरे भारतवंशी चिकित्सक की मौत

न्यूयॉर्क। अमेरिका में कोरोना वायरस से भारतवंशी चिकित्सक सुधीर एस चौहान की मौत हो गई, इसी महीने में अमेरिका में कोरोना से तीसरे भारतीय चिकित्सक की मौत है।

अमेरिका में कोरोना वायरस (COVID-19) के मरीजों को बीमारी से उबारने में लगे भारतवंशी चिकित्सक सुधीर एस चौहान की मंगलवार को मौत हो गई। कुछ हफ्ते पहले उन्हें कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था। बुधवार को इसकी जानकारी अमेरिका में भारतवंशी चिकित्सकों के संगठन एएपीआइ के मीडिया समन्वयक अजय घोष ने दी। इसी महीने में अमेरिका में कोरोना से तीसरे भारतीय चिकित्सक की मौत है।

डॉक्टर चौहान न्यूयॉर्क के जमैका हॉस्पिटल में अपनी सेवा दे रहे थे। वह यहांं इंटरनल मेडिसिन फिजिशियन और आईएम रेजीडेंसी प्रोग्राम के एसोसिएट प्रोग्राम डायरेक्टर थे। उन्होंने एमबीबीएस की पढ़ाई 1972 में कानपुर विश्वविद्यालय के गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल (जीएसवीएम) मेडिकल कॉलेज से पूरी की थी। चौहान ने आगे की पढ़ाई अमेरिका से की थी। उनकी विशेषज्ञता इंटरनल मेडिसिन में थी।

इसी महीने दो अन्य भारतवंशी चिकित्सकों की कोरोना से मौत

इसी महीने अमेरिका में दो अन्य भारतवंशी चिकित्सकों की भी कोरोना की चपेट में आने से मौत हो गई थी। वायरस के शिकार डॉक्टर सत्येंद्र देव खन्ना (78) और डॉक्टर प्रिया खन्ना (43) पिता-पुत्री थे। एएपीआइ की अध्यक्ष सीमा अरोड़ा ने बताया कि अमेरिका में कोरोना पीड़ितों की इलाज में जुटे हर सात चिकित्सकों में एक भारतीय मूल के हैं।

कोरोना वायरस की सबसे ज्यादा मार न्यूयॉर्क पर पड़ी
अमेरिका में कोरोना वायरस की सबसे ज्यादा मार न्यूयॉर्क पर पड़ी है। यहां अब तक संक्रमण से 28,636 लोगों की मौत हो गई है। और 76,410 मामले सामने आ गए हैं। वहीं अमेरिका दुनियाभर में कोरोना वायरस संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित देश है। यहां अब तक 15,51,853 मामले सामने आए हैं और 93,439 लोगों की मौत हो गई है। दोनों ही मामलों में विश्व में सबसे आगे है।

भारतीय-अमेरिकी चिकित्सा बिरादरी महामारी के खिलाफ लड़ाई के अग्रीम मोर्चे पर खड़ी

एएपीआइ ट्रस्ट बोर्ड की अध्यक्ष डॉ. सीमा अरोड़ा ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण पूरे स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र विशेष रूप से भारतीय-अमेरिकी चिकित्सा बिरादरी महामारी के खिलाफ लड़ाई के अग्रीम मोर्चे पर खड़ी है। एएपीआइ ने कहा कि भारतीय-अमेरिकियों की आबादी अमेरिका के एक प्रतिशत से भी कम है, लेकिन इनमें से नौ प्रतिशत अमेरिका स्वास्थ्य सुविधा के जुड़े हैं।
– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *