देश के युवाओं को अराजकता से नफरत है: ‘मन की बात’ में मोदी

नई दिल्‍ली। पीएम मोदी ने अपने मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात’ में कहा कि देश का युवा अराजकता पसंद नहीं करता। उन्होंने कहा कि अव्यवस्था और अस्थिरता के प्रति देश के युवा के मन में चिढ़ है। पिछले दिनों सीएए को लेकर हुए हिंसक प्रदर्शनों में छात्रों का जिक्र आने के बाद पीएम का यह संबोधन उस संदर्भ में देखा जा रहा है।
पीएम मोदी ने कहा, ‘आने वाले दशक को गति देने में वे लोग ज्यादा सक्रिय भूमिका निभाएंगे जो जिनका जन्म 21वीं सदी में हुआ है। जो इस सदी के महत्वपूर्ण मुद्दों को समझते हुए बड़े हुए हैं। ऐसे युवाओं को आज बहुत सारे नामों से पहचाना जाता है। कुछ लोग इन्हें मिलेनियल कहते हैं, तो कुछ जेन जेड या जनरेशन जेड के नाम से जानते हैं। एक बात तो लोगों के दिमाग में फिट हो गई है कि ये सोशल मीडिया जनरेशन है। हम सब अनुभव करते हैं कि हमारी यह पीढ़ी बहुत प्रतिभाशाली है। कुछ अलग करने का उसका ख्वाब रहता है।’
पीएम ने कहा, ‘इस पीढ़ी की अपनी सोच भी होती है। सबसे बड़ी खुशी की बात यह है कि इन दिनों युवा सिसस्टम को पसंद करते हैं। वे सिस्टम को फॉलो करना भी पसंद करते हैं, लेकिन अगर सिस्टम कहीं ठीक ढंग से रेस्पॉन्ड न करे तो वे बेचैन भी हो जाते हैं और हिम्मत के साथ सिस्टम को सवाल भी करते हैं। मैं इसे बेहद अच्छा मानता हूं। एक बात तो तय है कि हमारे देश के युवाओं को अराजकता के प्रति नफरत है। अव्यवस्था और अस्थिरता के प्रति उनके मन में चिढ़ है। वे परिवारवाद, जातिवाद, अपना-पराया, स्त्री-पुरुष जैसे भेदभाव को पसंद नहीं करते हैं।’
पीएम ने कहा, ‘ऐसा कई बार देखा गया है कि एयरपोर्ट पर या सिनेमा हॉल में कोई कतार तोड़ने की कोशिश करता है तो सबसे पहले युवा ही इसका विरोध करते हैं। यह एक नई प्रकार की व्यवस्था, नए प्रकार का युग है। आज भारत को इस पीढ़ी से बहुत उम्मीद है। स्वामी विवेकानंद ने भी युवाओं में ही विश्वास जताया था। इन्हीं मे से मेरे कार्यकर्ता निकलेंगे।’
बता दें कि पिछले दिनों नागरिकता (संशोधन) अधिनियम को लेकर देश के कई हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन देखने को मिले। जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भी छात्रों ने काफी उग्र प्रदर्शन किया था।
युवाओं के जज्बे को भी सराहा
पीएम मोदी ने देश के युवाओं के जज्बे की सराहना करते हुए उनकी कोशिशों की तारीफ की। एक ओर जहां पीएम ने बिहार के भैरोगंज में एक हाई स्कूल के बच्चों द्वारा लगाए गए फ्री हेल्थ कैंप को सराहा। वहीं जम्मू-कश्मीर में युवाओं के हित में चलाए जा रहे हिमायत प्रोजेक्ट की भी तारीफ की।
पीएम ने बिहार के भैरोगंज में पूर्व छात्रों द्वारा आयोजित की गई एक एल्युमिनाई मीट का जिक्र करते हुए पूर्व छात्रों के जज्बे को सराहा। पीएम मोदी ने मन की बात के दौरान कहा कि बिहार के पश्चिम चंपारण भैरवगंज हेल्थ सेंटर में एक स्कूल के पूर्व छात्रों ने हेल्थ कैंप लगाया था। 1995 के इन छात्रों ने हेल्थ कैंप लगाया तो यहां सैकड़ों लोग इलाज कराने के लिए चले आए। पीएम ने सराहना करते हुए कहा कि यह एक बेहद अच्छा कदम है।
हिमायत प्रोजेक्ट ने युवाओं को बनाया आत्मनिर्भर
बिहार के अलावा पीएम ने जम्मू-कश्मीर में चल रहे हिमायत कार्यक्रम की सराहना भी की। पीएम ने कहा कि हिमायत कार्यक्रम के दौरान करगिल में रहने वाली परवीन फातिमा आज आत्मनिर्भर बन सकी हैं। इसी तरह जम्मू-कश्मीर के डोडा के फियाज अहमद जो कि कभी आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे, वह भी अब हिमायत प्रोजेक्ट की मदद से नौकरी पाकर अपने परिवार की मदद कर पा रहे हैं।
तमिलनाडु के तिरुपुर में नौकरी करती हैं परवीन
करगिल की रहने वाली परवीन फातिमा तमिलनाडु के तिरुपुर स्थित एक गार्मेंट यूनिट में सुपरवाइजर की नौकरी करती हैं। करगिल के एख छोटे से गांव में रहने वाली परवीन को हिमायत प्रोजेक्ट के तहत स्किल डेवलपमेंट की ट्रेनिंग दी गई थी। इसके बाद उन्हें तिरुपुर में नौकरी मिली जहां वह प्रमोशन के बाद अब सुपरवाइजर बनी हैं। परवीन की तरह लेह-लद्दाख के कई अन्य युवाओं को भी हिमायत प्रोजेक्ट से ट्रेनिंग के बाद नौकरी मिली है।
स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम है ‘हिमायत’
पीएम नरेंद्र मोदी ने हिमायत प्रोजेक्ट को युवाओं की जिंदगी बदलने में बेहद कारगर बताते हुए इसकी सराहना की। हिमायत प्रोजेक्ट जम्मू-कश्मीर सरकार की ओर से चलाया जा रहा एक स्किल ट्रेनिंग प्रोग्राम है। इस कार्यक्रम की मदद से युवाओं को ना सिर्फ नई तकनीकी की ट्रेनिंग मिल रही है, बल्कि इससे हजारों लोगों को रोजगार भी मिल सका है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *