प्रतिबंध खत्‍म होते ही योगी बोले, मेरे मंदिर दर्शन कार्यक्रम को सियासत से न जोड़ें

लखनऊ। चुनाव आयोग की तरफ से लगाए गए 72 घंटे का बैन खत्म होने के बाद यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सिलसिलेवार कई ट्वीट किए हैं। सीएम योगी ने कहा है कि हिंदू उनकी धार्मिक पहचान है और लोकतांत्रिक मूल्यों के तहत उन्होंने चुनाव आयोग के आदेश का सम्मान किया। इसके साथ ही योगी ने ट्वीट में कहा कि उनके मंदिर दर्शन को सियासत से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए।
बता दें कि एक चुनावी सभा में बजरंग बजी और अली वाले बयान को लेकर आयोग ने योगी के प्रचार करने पर प्रतिबंध लगाया था।
सीएम योगी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘मेरे रग-रग में राम, कण-कण में कृष्ण, प्रत्येक शिरा में शिव और प्रत्येक धमनी में धर्म व कर्तव्य बोध निरंतर प्रवाहित होता रहता है। आज मैं फिर कहना चाहूंगा कि मेरी धार्मिक पहचान हिन्दू है, वह हिन्दू जो भारत मे रहने वाले सभी पंथों और धर्मों का सम्मान समान भाव से आदिकाल से करता आ रहा है। राष्ट्र की संवैधानिक संस्थाओं का सम्मान और लोकतांत्रिक मूल्यों का मान बीजेपी की विचारधारा का अभिन्न अंग है, विगत 72 घण्टों में मैंने चुनाव आयोग के आदेश का सम्मान किया और उसे समुचित आदर दिया।’
योगी ने अयोध्या और वाराणसी में मंदिरों के दर्शन को लेकर अपने ट्वीट में कहा, ‘मेरे आराध्य रामलला, बजरंग बली और महादेवजी के दर्शन को किसी भी प्रकार की राजनीति से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। मैं स्पष्ट करना चाहता हूं कि आस्था का अधिकार संविधान प्रदत्त है और मुझे इस अधिकार का प्रयोग करने से कोई रोक नहीं सकता। अयोध्या में रामलला, हनुमान गढ़ी में बजरंग बली और सरयू माता के दर्शन पाकर हुई अनुभूति को शब्दों में व्यक्त कर पाना संभव नहीं है।’
योगी ने हनुमान जयंती की बधाई देते हुए कहा, ‘हनुमानजी में मेरी अटूट आस्था है और संकटमोचन में इस आस्था के बीच कोई नहीं आ सकता उनका दृढ़ संकल्पित, समर्पित जीवन मेरे लिए एक प्रेरणास्रोत है। नासै रोग हरै सब पीरा, जो सुमिरै हनुमत बलबीरा। अतुलित भक्ति और अपरिमित शक्ति के प्रतीक श्री हनुमानजी की जयंती पर सभी को शुभकामनाएं।’
अयोध्या में दलित महावीर के घर जाकर भोजन करने का जिक्र करते हुए योगी ने ट्वीट किया, ‘प्रधानमंत्रीजी की जनकल्याणकारी योजनाओं से जन-जन कितने प्रसन्न हैं भाई महावीर और उनके परिवार से मिलकर पता चला। उनकी पत्नी सावित्री द्वारा बनाया गया सादा सुस्वादु भोजन ग्रहण कर प्रसन्नता हुई। समाज के आखिरी पायदान पर बैठे वंचितों के जीवन में ऐसी खुशियां हों, यही बीजेपी का लक्ष्य है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »