संसद भवन के अंदर बने मेडिकल सेंटर की एक्स-रे रिपोर्ट गलत निकली

नई दिल्‍ली। संसद भवन के अंदर बने मेडिकल सेंटर में एक्स-रे की गलत रिपोर्ट से सांसद परेशान हैं। सांसद जगदंबिका पाल और पूर्व सांसद महाबल मिश्रा ने स्टाफ के अनुभव पर सवाल उठाते हुए लोकसभा अध्यक्ष और स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिख कर अपनी शिकायत दर्ज कराई है। इन्होंने कहा है कि अनुभवहीन स्टाफ की वजह से उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ा और दोबारा इस जांच से गुजरना पड़ा। दोनों ने यहां पर अनुभवी स्टाफ नियुक्त करने और सीएमओ के खिलाफ एक्शन लेने की मांग की है।
जगदंबिका पाल ने 22 अगस्त को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के नाम यह पत्र लिखा था और उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष से अनुभवी स्टाफ को नियुक्त करने की मांग की थी लेकिन इसमें सुधार नहीं हुआ जिसके बाद एक और पूर्व सांसद इसका शिकार हुए। उनकी भी एक्स-रे रिपोर्ट गलत पाई गयी।
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को लिखे अपने पत्र में महाबल मिश्रा ने लिखा है कि 25 सितंबर को पार्लियामेंट हाउस के अंदर बने मेडिकल सेंटर में वह चेकअप कराने गए थे। उन्हें एक्स-रे कराने को बोला गया। इसके बाद जब वह जांच कराके रिपोर्ट के साथ डॉक्टर से मिले तो डॉक्टर ने उन्हें कई बीमारियों के बारे में पूछना शुरू कर दिया, जबकि उन्हें ऐसे कोई लक्षण नहीं थे।
महाबल ने आगे लिखा है कि डॉक्टर ने उन्हें रेडियोलॉजिस्ट के पास भेज दिया। रेडियोलॉजिस्ट ने भी उनसे इसी तरह की बीमारियों के बारे में पूछना शुरू कर दिया। बाद में उन्होंने बताया कि एक्स-रे गलत है, जिस वजह से गंभीर बीमारी दिखा रही थी। उनसे दोबारा एक्स-रे कराने को कहा गया। महाबल ने आगे लिखा है कि जब दोबारा उन्होंने एक्स-रे कराया तो सब कुछ सही था।
मंत्री से अनुरोध करते हुए पूर्व सांसद ने आगे लिखा है कि जो स्टाफ अभी डिजिटल एक्स-रे में तैनात हैं, उन्हें अपने काम को लेकर कोई अनुभव नहीं है। जिस सीएमओ ने उन्हें यहां तैनात किया है। उसके खिलाफ उचित कार्यवाही की जाए। जिसकी वजह से उन्हें कई प्रकार की जांच करानी पड़ी इसलिए उनका अनुरोध है कि सांसद मेडिकल सेंटर में उच्च अनुभवी रेडियोग्राफर की ड्यूटी लगाई जाए। जिससे सभी मंत्री, सांसद और पूर्व सांसदों का सही इलाज हो सके।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »