Fake News से दुनिया परेशान, लेकिन फेसबुक गंभीर नहीं

सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही Fake News से एक ओर जहां दुनिया परेशान है और इस पर लगाम लगाने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं वहीं दूसरी ओर फेसबुक इस मामले को लेकर ज्यादा गंभीर नहीं दिख रहा है। फेसबुक ने कहा है कि वह अपनी साइट से सामान्य फर्जी कॉन्टेंट को आसानी से नहीं हटाता है।
फेसबुक के चैलेंजिंग मुद्दों को लेकर आयोजित होने वाली सीरीज ‘हार्ड क्वेश्चर्न्स’ में हिस्सा लेने के दौरान फेसबुक की ग्लोबल पॉलिसी मैनजमेंट प्रमुख मोनिका बिकर्ट ने कहा कि सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक हेट स्पीच को लेकर सख्त नियम बना रहा है। व्यक्तिगत हमलों को भी गंभीरता से ले रहा है लेकिन फेसबुक पर फर्जी कॉन्टेंट की कोई सेंसरशिप नहीं होती है।
बिकर्ट ने कहा, ‘हम फेसबुक पर हेट स्पीच की अनुमति नहीं देते हैं, क्योंकि यह ऐसा माहौल बनाता है, जहां लोगों को महसूस होता है कि उन पर व्यक्तिगत रूप से हमला हो रहा है। इससे लोग फेसबुक पर आने और कुछ भी शेयर करने में सहज महसूस नहीं करेंगे।’ उन्होंने कहा, ‘अगर कोई किसी बात को लेकर सिर्फ झूठा दावा करता है तो हम इसे नहीं हटाते हैं।’ साथ ही कहा कि फेसबुक इसके साथ उस झूठे कॉन्टेंट से जुड़े दूसरे पहलू को भी प्रमोट करने की कोशिश करता है।
बिकर्ट ने कहा, ‘भले ही यह झूठी बात का भयानक दावा हो, प्रलय के बारे में हो या फिर किसी दूसरी दुनिया के बारे में ही क्यों न हो, हम मात्र झूठी होने के कारण ऐसे कॉन्टेंट को नहीं हटाते हैं।’ एक ओर जहां सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अफवाहों की वजह से भारत समेत दुनियाभर में हिंसा की घटनाएं सामने आ रही हैं, ऐसे समय में फेसबुक का यह बयान काफी मायने रखता है।
बिकर्ट ने कहा है कि किसी भी कॉन्टेंट को ब्लॉक करते समय फेसबुक स्थानीय नियमों को भी तवज्जो देता है। उन्होंने कहा, ‘जब हमसे कोई देश कहता है कि यह हमारे देश में अवैध है, तो हम उस स्पीच को ब्लॉक कर देते हैं। हालांकि, वह स्पीच सिर्फ उसी देश में हटाई जाती है, जहां से आपत्ति आती है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »