तकनीकी शिक्षा का नायाब प्रकल्प है Sanskriti University

Sanskriti University में कौशलपरक शिक्षा और जॉब के अनेकानेक ऑप्शंस

मथुरा। समय बदल रहा है। आज हर अभिभावक अपने बच्चों की शिक्षा और करियर को लेकर फिक्रमंद है। वह चाहता है कि उसका बच्चा ऐसी तालीम हासिल करे जोकि रोजगारपरक हो और पढ़ाई पूरी करते ही वह अपने सपनों को साकार कर सके। तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर सुधार की ओर अग्रसर Sanskriti University आज हर युवा की पहली पसंद है, इसकी वजह यहां की आधुनिकतम तकनीकी तथा कौशलपरक शिक्षा और जॉब के अनेकानेक ऑप्शंस हैं। बीते सत्र में प्लेसमेंट के क्षेत्र में संस्कृति यूनिवर्सिटी की सफलता आज यंगस्टर्स के सामने एक नजीर है।

संस्कृति यूनिवर्सिटी के कुलपति डा. राणा सिंह का कहना है कि आज अच्छी कम्पनियां उन्हीं युवाओं को सेवा का अवसर देती हैं जिनमें तकनीकी क्षमता के साथ नई सोच होती है। संस्कृति यूनिवसिर्टी में युवाओं की लाइफ स्किल्स को मोटीवेट करने के लिए जहां सुयोग्य प्राध्यापकों का एक अलग विभाग है वहीं यहां के छात्र-छात्राओं को वर्ष भर बड़ी-बड़ी कम्पनियों में शैक्षिक भ्रमण को भेजा जाता है ताकि वे कम्पनियों की कार्यप्रणाली को करीब से समझ सकें। संस्कृति यूनिवर्सिटी में जहां रोजगारोन्मुख शिक्षा पर निरंतर ध्यान दिया जा रहा है वहीं बड़ी-बड़ी कम्पनियों से अनुबंध होने के चलते छात्र-छात्राओं को अपने सपने साकार करने के पर्याप्त अवसर मिलते रहते हैं।

संस्थान के प्रति-कुलपति डा. अभय कुमार का कहना है कि Sanskriti University में युवाओं के करियर को संवारने के लिए कई सारे ऑप्शंस पर ध्यान दिया जाता है। यहां छात्र-छात्राओं की क्रिएटिविटी के साथ उनमें टेक्निकल स्किल्स को शार्प कर इस लायक बना दिया जाता है कि वे किसी भी बड़ी कम्पनी में सहजता से जॉब हासिल कर सकें। हर प्रोफेशनल्स युवा अपनी क्रिएटिव और टेक्निकल स्किल्स के जरिए पैरों पर खड़ा हो, यही संस्कृति यूनिवर्सिटी का मूल उद्देश्य है। एम.एस.एम.ई. और संस्कृति यूनिवर्सिटी के संयुक्त प्रयासों से संचालित सेण्टर आफ एक्सीलेंस छात्र-छात्राओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करता है।

संस्थान के प्लेसमेंट हेड आर.के. शर्मा का कहना है कि बीते सत्र के विषयवार प्लेसमेंट की चर्चा करें तो मैकेनिकल, सिविल, इलेक्ट्रिकल, कम्प्यूटर साइंस, फैशन डिजाइनिंग तथा बीएसी और एमएससी के लगभग शत-प्रतिशत छात्र-छात्राओं को जानी-मानी कम्पनियों में जॉब मिले हैं। श्री शर्मा का कहना है कि मैकेनिकल बी.टेक., मैकेनिकल डिप्लोमा, इलेक्ट्रिकल बीटेक, इलेक्ट्रिकल डिप्लोमा, बीटेक सिविल, डिप्लोमा, कम्प्यूटर साइंस के छात्र-छात्राओं ने भी अपने तकनीकी ज्ञान और बौद्धिक कौशल से शिक्षा पूरी करने से पहले ही अच्छी कम्पनियों में जॉब हासिल किये हैं। एमबीए और बीबीए की जहां तक बात है, इस साल इन संकायों के शत-प्रतिशत विद्यार्थियों को जॉब के अवसर मिले हैं। शिक्षा पूरी करने से पहले ही सफलता हासिल कर चुके छात्र-छात्राएं ही नहीं उनके अभिभावक भी मानते हैं कि Sanskriti University में प्लेसमेंट पूर्व कराई जा रही तैयारियों के चलते ही उनके बेटे-बेटियों को बहुराष्ट्रीय कम्पनियों में सेवा का अवसर मिले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »