अमरनाथ Vidya Ashram में अटल बिहारी वाजपेयी को दी श्रद्धांजलि

Vidya Ashram की श्रद्धांजलि सभा में मौन रख आत्मा की शांति के लिये की प्रार्थना

मथुरा। जनपद की प्रमुख आवासीय शिक्षण संस्था अमर नाथ Vidya Ashram में एक श्रद्धांजलि सभा आयोजित कर भारत के पूर्व प्रधानमंत्री, प्रख्यात कवि एवं भारत रत्न स्व. श्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर शोक व्यक्त किया गया ।

संस्था के चेयरमैन डा. आदित्य कुमार वाजपेयी, प्रधानाचार्य डा. अरूण कुमार वाजपेयी, उप-प्रधानाचार्य डा. अनुराग वाजपेयी तथा सभी शिक्षकों तथा विद्यार्थियों ने उनके छायाचित्र के सम्मुख पुष्पांजलि अर्पित की तथा दो मिनट का मौन रख कर उनकी आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना की।

छात्र प्रशांत, विकास आदि विद्यार्थियों ने उनकी प्रसिद्ध कवितायें कदम मिला कर चलना होगा.., दुनियां का इतिहास पूंछता, आओ फिर से दिया जलायें, ‘‘हिन्दू तन-मन , हिन्दू जीवन’, क्रांतिकारी कविता – एक नहीं दो नहीं करो बीसों समझौते, मौत से ठन गई.., हार नहीं मानूंगा, रार नई ठानूंगा….’’ मैं जी भर जिया मन से मरूं…’ लौट कर आऊंगा कूंच से क्यों डरूं’’ का भी वाचन किया ।

चेयरमैन डा. आदित्य कुमार वाजपेयी ने श्रद्धांजलि सभा में श्री अटल बिहारी वाजपेयी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डालते हुये कहा कि अटल जी राजनैतिक जीवन में सबसे आदर्शवादी एवं प्रशंसनीय तथा चमत्कारी नेता थे। विपक्षी नेता ही नहीं विदेशी नेता भी उनके महान व्यक्तित्व के मुरीद थे। उनके नेतृत्व में भारत ने अभूतपूर्व प्रगति की थी।

अमर नाथ विद्या आश्रम के प्रधानाचार्य डा. अरूण कुमार वाजपेयी ने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुये भारतरत्न अटल जी के सम्बन्ध मंे अनेकों प्रसंग बताते हुये कहा कि भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने शासनकाल में शिक्षा तथा देश की अखण्डता एवं विकास के लिये अनेकों कदम उठाये । अटल जी का मानाना था कि शिक्षा के विकास के बिना किसी भी देश का विकास सम्भव नही है । उन्होंने बच्चांे से अटल जी के जीवन से प्रेरणा लेने का अनुरोध किया । उप प्रधानाचार्य डा. अनुराग वाजपेयी, सोनिका शर्मा आदि ने भी अटल जी को श्रद्धासुमन अर्पित किये । इस अवसर पर अमरनाथ गल्र्स डिग्री कालेज, ग्रोइंग सोल किड्ज गुरूकुुल, ए.वी.ए. इण्टरनेशनल स्कूल के सभी शिक्षक एवं छात्र प्रमुख रूप से उपस्थित रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »