सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा, आधार कार्ड को अनिवार्य क्यों किया गया ?

The Supreme Court asked the Central Government, why the Aadhaar card was compulsorily?
सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा, आधार कार्ड को अनिवार्य क्यों किया गया ?

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा है कि जब हमने आधार कार्ड के इस्तेमाल को वैकल्पिक करने का आदेश दिया था, फिर इसे अनिवार्य क्यों किया गया। शुक्रवार को आईटी रिटर्न फाइल करने में आधार अनिवार्य करने के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए शीर्ष अदालत ने यह टिप्पणी की। कोर्ट ने कहा कि वह अगले सप्ताह इस बारे में फैसला सुनाएगा कि इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए आधार को जरूरी किया जाना चाहिए या नहीं।
Supreme Court asks Centre ‘how can u make Aadhar card mandatory when we have passed an order to make it optional?’
—ANI (@ANI_news) April 21, 2017
एएनआई के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने पूछा, ‘आप आधार कार्ड को जरूरी कैसे कर सकते हैं, जबकि हमने इसे वैकल्पिक बनाने का ऑर्डर पास किया था।’ इसके जवाब में अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि सरकार के पास अब इसे इस्तेमाल करने के लिए कानून है। सरकार का पक्ष रखते हुए रोहतगी ने कहा, ‘हमने पाया है कि तमाम मुखौटा कंपनियों में फंड्स को ट्रांसफर करने के लिए पैन कार्ड्स का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है। इसे रोकने के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य करना ही एक मात्र विकल्प है।’
पिछले महीने ही केंद्र सरकार ने आईटी रिटर्न फाइल करने, पैन कार्ड के लिए आवेदन करने और उसमें संशोधन के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया था। वित्त मंत्री ने इस फैसले की जानकारी देते हुए कहा था कि सरकार का लक्ष्य पैन कार्ड्स के साथ आधार को जोड़ना है ताकि ड्यूप्लिकेट पैन कार्ड्स के इस्तेमाल को रोका जा सके।
इससे पहले 11 अगस्त, 2015 के अपने आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सरकारी स्कीमों के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य नहीं किया जा सकता। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था, ‘केंद्र सरकार को प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के जरिए लोगों को बताना चाहिए कि नागरिक के लिए आधार कार्ड बनवाना अनिवार्य नहीं है। नागरिक को मिलने वाली किसी भी सुविधा के लिए आधार कार्ड की बाध्यता तय नहीं की जा सकती।’
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *