पूरे ब्रज को सराबोर कर रही है रक्षाबंधन की विशेष मिठाई घेबर

रक्षाबंधन पर्व नजदीक आते ही अब शहर भी घेबर की सुगंध से महक उठा है। शहर में जगह-जगह देसी घी और वनस्पति घी से निर्मित घेबर तैयार किया जा रहा है। मथुरा में वैसे तो हर तरफ खाने-पीने की दुकाने है हर तरफ हर दो कदम पर मिठाई की दुकानें नजर आयेंगी। कचौडी, जलेबी की दुकानें नजर आ जाती हैं। यहां लोग चाट-पकौडी, मिठाई खाने के बडे़ शौकीन है। यहां की खास बात यह भी है कि सीजन के हिसाब से मिठाईयां तैयार होती हैं। गजक, रेबडी, इमरती, घेबर, फेनी आदि। गजक रेबडी सर्दीयों में, इमरती केबल पित्र पक्ष यानी सितम्बर, अक्टूबर में तैयार होती हैं। घेबर फेनी सावन के महिने में बनाई जाती है। सावन के महीने में बाजारों में तैयार होने वाली विशेष मिठाई घेबर की महक भी अपनी ओर लालायित करती है। इन दिनों शहर की हर मिठाई की दुकान पर घेबर मिल जायेगा। घेबर की विक्री हरियाली तीज से रक्षाबंधन तक होती है इसके लिये दुकानदार महिनों से सूखा घेबर बना कर रखने लगे हैं सीजन शुरू होते ही इनको गरम करके इस पर मलाई, खीस, खोआ, मेवा आदि लगा कर दुकानों पर सजा लेते हैं।

कैसे बनता है घेबर और कैसे सजाया जाता है

 

घेबर का वैसे तो कोई इतिहास नहीं हैं कि इसको किसने तैयार किया तथा कब और क्यों तैयार किया लेकिन घेबर मुख्य रूप से राजस्थान में ज्यादा तैयार किया जाता है। जयपुर में घेबर को विभिन्न तरीकों से तैयार कर व सजाया जाता है। घेबर को एक गोल कढाई में रिंग नुमा सांचों में खमीर उठा हुआ मैदा पतली धार के साथ गरम घी में डाला जाता है। गरम घी में मैदा एक रूप ले लेता है जिसको निकाल कर पहले तो इस पर चीनी की चाशनी चढाई जाती थी लेकिन अब इस मिठाई का भी रूप समय के अनुसार बदल गया है। अब घेबर मलाई, खीज, खोआ, मेवा से तैयार किया जाता है।

इसके अलावा फैनी भी मैदा से ही बनती है जिसको खींच खींच कर रेशों में तैयार किया जाता है मीठी फैनी व सादा फैनी बनती है। कुछ लोग मीठी फैनी खाते हैं तो कुछ दूध में फीकी फैनी डालकर उपर से मीठा डालकर खाते हैं। मैदा से निर्मित घेबर एक ऐसी मिठाई है, जिसको खाने का मन हर किसी को करता है। पहले यह घेबर अधिक चाशनी में बनती थी जो गांव के लोग खूब मजे से खाते थे। स्वास्थ्य की चिन्ता ने लोगों को ज्यादा चीनी से बनने वाली मिठाईयों से दूर कर दिया है।
अब हर कोई अपने स्वास्थ्य को लेकर चिन्तित रहता है जिसके कारण अब वह चीनी वाला घेबर बाजार में दिखाई नहीं देता है साथ ही अब उसके खरीददार भी नही हैं सब मलाई वाला घेबर ही लेना पसन्द करते हैं।

रक्षाबन्धन पर ही क्यों बनता है घेबर
जिसका सावन के महीने में विशेष महत्व है। सावन के महिने के बाद इस घेबर के मिठाई की दुकानों पर दर्शन नहीं होते हैं। इस महीने में पडने वाले त्योहार हरियाली तीज, रक्षाबंधन पर इस मिठाई का ही चलन है। हरियाली तीज पर पति अपनी पत्नियों के लिए घेबर खरीदकर ले जाते हैं। नवविवाहित युवक ससुराल जाते हैं तो वह घेबर लेकर जाते हैं। इसके बाद रक्षाबंधन पर बहन अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधने के बाद घेबर से ही उनका मुंह मीठा कराती हैं। इस सब के चलते घेबर की जमकर डिमांड रहती है। घेबर की सीजनल दुकानें भी इस समय सज जाती हैं। हरियाली तीज और रक्षाबंधन तक दुकानदारों के सारे गोदाम खाली हो जाते हैं। शहर में प्रमुख मिठाई विक्रेताओं के अलावा चौक बाजार, होली गेट, मण्डी रामदास, शहर के हर गली मौहल्ले में स्पेशल दुकान सज जाती हैं।

पिछले वर्ष के मुकावले घेबर के दामों में इजाफा हुआ है

घेबर के रेट पिछली साल की अपेक्षा इस बार ज्यादा बढ़े हैं। रिफाइंड से तैयार घेबर तीन सौ अस्सी रुपये प्रति किलो है तो देसी घी से तैयार घेबर 450-500 रुपये तक बिक रहा है। पिछले साल रिफाइंड से निर्मित घेबर 180-280 रुपये तक बिका और देसी घी का 350-420 रुपये तक बिका था। सावन में हर साल दुकानदार अपनी दुकान के सामने स्पेशल दुकान भी लगाते हैं और ठेके पर और दुकानदारों का घेबर भी तैयार करते हैं। ठेके पर काम करने वाले महीनों पहले से सूखे घेबर का स्टाक करते हैं और सीजन में इनकी ब‍िक्री दुकानों पर होती है।

– सुनील शर्मा, मथुरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »