12 टीमों के साथ प्रो-कबड्डी league का छठा सीजन कल से होगा शुरू

नई दिल्‍ली। प्रो-कबड्डी league का छठा सीजन कल रविवार (7 अक्टूबर) से शुरू हो रहा है, सीजन-6 की जिस ट्रॉफी के लिए 12 टीमें 3 माह तक संघर्ष करने वाली हैं, उसे शुक्रवार को चेन्नई में लॉन्च किया गया. इस मौके पर league में हिस्सा ले रही 12 टीमों के कप्तान मौजूद थे। चेन्नई में होने वाले उद्घाटन समारोह में बॉलीवुड स्टार श्रुति हसन और टॉलीवुड स्टार विजय सेतुपति परफॉर्म करेंगे।

हरियाणा के मोनू गोयत सबसे महंगे खिलाड़ी
प्रो कबड्डी league का छठा संस्करण करीब तीन महीने चलेगा। फाइनल मुकाबला अगले साल 5 जनवरी को मुंबई में होगा। इसके प्ले-ऑफ के मुकाबले कोच्चि में खेले जाएंगे। मैचों का सीधा प्रसारण स्टार स्पोर्ट्स के चैनलों पर होगा। प्रो कबड्डी लीग में पहली बार छह ऐसे खिलाड़ी उतरेंगे, जिन्हें एक करोड़ से अधिक का कॉन्ट्रैक्ट मिला है। मोनू गोयत लीग के सबसे महंगे खिलाड़ी है। उन्हें हरियाणा स्टीलर्स ने 1.51 करोड़ में खरीदा है।

हर टीम में आधे से ज्यादा नए खिलाड़ी
प्रो कबड्डी लीग की टीमें इस साल बदली-बदली नजर आएंगी। इसकी वजह यह है कि ज्यादातर टीमों ने अपने खिलाड़ियों को रीटेन करने की बजाय इस साल हुई नीलामी में नए खिलाड़ियों पर दांव लगाया। मई में हुई नीलामी से पहले लीग की 12 टीमों में से सिर्फ 9 टीमों ने 21 एलीट खिलाड़ियों को रिटेन किया था. यानी तीन टीमों ने तो अपनी सारी टीम ही बदल दी है। इनमें जयपुर पिंक पैंथर्स की टीम शामिल है, बाकी टीमों में भी काफी बदलाव हैं।

3 बार के चैंपियन पटना की कमान प्रदीप संभालेंगे
लीग में तीन बार की चैंपियन टीम पटना पाइरेट्स की कप्तान प्रदीप नरवाल संभालेंगे। बंगाल वॉरियर्स के कप्तान सुरजीत सिंह, दबंग दिल्ली के कप्तान जोगिंदर सिंह नरवाल, तमिल थलाइवाज के कप्तान अजय ठाकुर, गुजरात फॉर्च्यूनजाएंट्स के कप्तान सुनील कुमार होंगे।हरियाणा स्टीलर्स ने सुरेंद्र नड्डा और जयपुर पिंक पैंथर्स ने अनूप कुमार को कप्तानी सौंपी है। पुनेरी पल्टन के कप्तान गिरीश एर्नाक, तेलुगू टाइटेंस के कप्तान विशाल भारद्वाज, यूपी योद्धा के कप्तान ऋषांक देवाडिगा होंगे। ये सभी ट्रॉफी की लॉन्चिंग के मौके पर मौजूद थे।

पटना के कप्तान ने कहा- मैं डुबकी लगाता रहूंगा
इस मौके पर पटना पायरेट्स के कप्तान प्रदीप नरवाल ने कहा, ‘मैं डुबकी लगाना कभी नहीं बंद करूंगा। मैंने इस सीजन के लिए डुबकी के अलावा कई और स्ट्रेटजिक मूव्स की तैयारी की है, जो मुकाबलों के दौरान नजर आएगी।’ दूसरी ओर तमिल थलाइवाज के कप्तान अजय ठाकुर ने कहा, ‘पिछले सीजन में हमारी टीम में ज्यादातर खिलाड़ी युवा थे. ऐसे में तुरंत निर्णय लेने में मुश्किल हो रही थी। इस साल हमारी टीम में युवाओं और सीनियर खिलाड़ियों का अच्छा संतुलन है। इस बार मैच के दौरान फैसले लेने में आसानी होगी।’

लंबे सीजन में चोट का खतरा कम रहेगा: ऋषांक
यूपी योद्धा के कप्तान ऋषांक देवाडिगा ने कहा, ‘पहले के सीजन छोटे होते थे। कम अंतराल पर ज्यादा मैच खेलने से चोट का खतरा ज्यादा रहता है। अब मैचों के बीच अंतराल ज्यादा बड़े होंगे। इससे खिलाड़ियों को चोट लगने का खतरा कम हो जाएगा. लंबे फॉर्मेट के कारण खिलाड़ियों को अपनी फिटनेस पर काम भी ज्यादा करना पड़ेगा।’

पटना, जयपुर और मुंबई की टीमें बन चुकी हैं चैंपियन
प्रो कबड्डी league का यह छठा संस्करण है। अब तक हुए पांच संस्करणों में से तीन पटना पायरेट्स ने जीते हैं। उसने पहला खिताब जनवरी 2016 में जीता था। इसके बाद जून 2016 और 2017 में भी अपने खिताब बरकरार रखे। सीजन-1 का खिताब 2014 में जयपुर पिंक पैंथर्स ने जीता था। साल 2015 में यू मुंबा चैंपियन बनी थी।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »