राजस्थान में सत्‍ताधारी पार्टी कांग्रेस ही खुद मतभेदों की शिकार

जयपुर। राजस्थान में राज्य सभा चुनाव को लेकर कथित हॉर्स ट्रेडिंग और कांग्रेस विधायकों को बीजेपी की ओर से प्रलोभन देने का मामला और तूल पकड़ता जा रहा है।
बीजेपी पर विधायकों की खरीद फरोख्त के आरोप लगाने वाली खुद कांग्रेस पार्टी में अब इस मसले पर मतभेद सामने आए हैं। प्रदेश कांग्रेस प्रमुख और डिप्टी सीएम सचिन पायलट जहां ऐसे प्रलोभन वाले आरोपों को कोरी अफवाह करार दे रहे हैं वहीं सीएम अशोक गहलोत का दावा है कि उनके पास इसकी जानकारी है और वो बतौर सरकार के मुखिया अपनी सरकार को बचाने के लिए विधायकों को आगाह करने का कदम उठा रहे हैं। कांग्रेस विधायकों को पैसों का प्रलोभन देने के आरोपों पर कांग्रेस में अंदरुनी मतभेद के बीच अब सबसे बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि यदि पायलट के कहे अनुसार यह सिर्फ अफवाह फैलाई जा रही है तो आखिर बीजेपी के नाम पर ऐसा कौन कर रहा है?
पायलट की बात: जानबूझकर बड़े संघर्ष का माहौल बनाया जा रहा है
सचिन पायलट ने गुरुवार को रिसॉर्ट में बाड़ेबंदी के बीच पार्टी के विधायकों से मुलाकात के बाद कहा था कि कांग्रेस के पास संख्या है और पार्टी के दोनों उम्मीवार राज्यसभा चुनाव में जीत दर्ज करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस ने उपचुनावों के बाद विधानसभा चुनावों में जीत दर्ज की और अब राज्यसभा सीटों पर पार्टी के उम्मीदवार जीतेंगे। इस पर किसी को कोई संदेह नहीं होना चाहिए। जो लोग भ्रम फैला रहे हैं, वे किसी भी पार्टी या समूह के हों, वे जानबूझकर ऐसा माहौल बना रहे हैं कि यहां एक बड़ा संघर्ष हो रहा है। पार्टी के विधायक एकजुट हैं। इससे पहले पायलट ने कहा था कि ‘मैं साफतौर पर बताना चाहता हूं कि कांग्रेस पार्टी के पास पर्याप्त जनादेश है, निर्दलीय विधायकों और अन्य पार्टियों के विधायकों का समर्थन प्राप्त है। हमारे दोनों उम्मीदवार चुनाव में जीतेंगे। चुनाव से पहले कई तरह की बातें होती है लेकिन सबको जमीनी हकीकत पता है,संख्या बल हमारे पास है।’
गहलोत ने कहा, मैं सरकार का मुखिया… मेरे पास पूरी खबर
पायलट के भ्रम फैलाने और जानबूझकर ऐसे माहौल की बात से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना बिल्कुल उलट है। उन्होंने कहा है कि मेरे पास खबर है। राजस्थान में खेल चल रहा है। बीजेपी के नेता प्रलोभन दे रहे हैं। टेलीफोन कर रहे विधायकों को, कोई 25 करोड़ की बात कर रहा है कोई 30 करोड़ की बात कर रहा है। इससे पहले हम ऐसा ही मध्य प्रदेश में सुन रहे थे अब राजस्थान में।
सचिन-गहलोत के बीच मतभेद पर क्या?
सीएम गहलोत जब एक चैनल पर सचिन पायलट के साथ मतभेद पर सवाल किया गया तो उन्होंने सीधा जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा, यदि किसी को कोई बात पसंद है या नहीं है तो प्रभारी अविनाश पांडे, संगठन के महामंत्री और राज्य सभा चुनाव में प्रत्याशी केसी वेणुगोपाल, पर्यवेक्षक रणदीप सिंह सुरजेवाला को अपनी बात कह सकते हैं, बजाय वो मीडियो में कहे।
19 जून को है चुनाव, विधायकों की बाड़ा बंदी भी जारी
राजस्थान में राज्य सभा की 3 सीटों के लिए 19 जून को चुनाव होना है। 200 सीटों वाली राजस्थान विधानसभा से इन तीन सीटों के लिए 4 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। चार प्रत्याशियों के मैदान में होने से जीत के लिए एक प्रत्याशी को 51 वोट चाहिए। संख्या बल के अनुसार अब भी सत्तारुढ़ कांग्रेस पार्टी का पलड़ा भारी है लेकिन सैंधमारी के डर से कांग्रेस विधायकों की पिछले 3 दिन से जयपुर-दिल्ली हाईवे पर एक रिसॉर्ट में बाड़ाबंदी की गई है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *