पाकिस्‍तान ने एयर स्ट्राइक की जगह पर जाने से रोकी रॉयटर्स की टीम

जाबा (पाकिस्तान)। पुलवामा आतंकी हमले के गुनहगारों को सबक सिखाने के लिए भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुसकर एयर स्ट्राइक की लेकिन पड़ोसी मुल्क दुनिया को गुमराह करना चाहता है। पाकिस्तान के सुरक्षा अधिकारी मीडिया को उस पहाड़ी पर जाने से रोक रहे हैं जहां पर भारतीय एयर फोर्स ने मिसाइलें दागीं थीं। समाचार एजेंसी रॉयटर्स की एक टीम को भी गुरुवार को ऐसी ही स्थिति का सामना करना पड़ा। पाक अधिकारियों ने मीडिया टीम को उत्तरपूर्वी पाकिस्तान स्थित बालाकोट की उस पहाड़ी पर बने मदरसे और आसपास की इमारतों के करीब जाने से रोक दिया। पिछले हफ्ते भारतीय एयरफोर्स के लड़ाकू विमानों ने इसी इलाके को निशाना बनाया था।
आपको बता दें कि अपने हिसाब से तस्वीरें दिखाकर पाकिस्तान अब तक दुनिया को बताता रहा है कि भारत ने कोई एयर स्ट्राइक नहीं की। पिछले 9 दिनों में यह तीसरी बार है जब रॉयटर्स के रिपोर्टर इलाके में पहुंचे हैं। दरअसल, यहां स्थित जिस इमारत को मदरसा बताया जा रहा है, वह आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा संचालित किया जाता था। भारतीय एयरफोर्स ने इसी आतंकी ट्रेनिंग कैंप पर बम बरसाए थे लेकिन पाक अधिकारी अब पत्रकारों को वहां जाने नहीं दे रहे हैं।
स्ट्राइक के फौरन बाद भारत के विदेश सचिव विजय गोखले ने बताया था कि इस ट्रेनिंग कैंप पर की गई कार्यवाही में बड़ी संख्या में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी, ट्रेनर्स, सीनियर कमांडर मारे गए हैं।
पाकिस्तानी सुरक्षा अधिकारी उसके बाद से ही उस रास्ते पर कड़ा पहरा रखे हुए हैं, जो उस जगह की तरफ जाता है। अधिकारी सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए पत्रकारों को जाने से रोक रहे हैं। आपको बता दें कि एयर स्ट्राइक के फौरन बाद ही पाकिस्तानी फौज की तरफ से कहा गया था कि वह मीडिया को उस स्थान पर ले जाएंगे जहां एयर स्ट्राइक की बात कही जा रही है। ऐसे में यह समझा जा सकता है कि दिखावे के लिए पाकिस्तान ने भले ही ऐसा बयान दे दिया हो पर अंदर से उसे सच्चाई जाहिर होने का डर सता रहा है।
26 फरवरी को भारत के ऐक्शन के बाद से ही पाकिस्तान सरकार कह रही है कि किसी भी इमारत को कोई नुकसान नहीं हुआ है और किसी की जान नहीं गई है। इस्लामाबाद में सेना की प्रेस विंग ने भी मौसम और संगठन के कारणों का हवाला देते हुए साइट पर जाने का दौरा रद कर दिया। एक अधिकारी ने कहा कि सुरक्षा कारणों से अगले कुछ दिनों तक उस स्थान पर जाना संभव नहीं होगा।
फिलहाल स्थिति यह है कि रॉयटर्स टीम को पहाड़ी के नीचे और मदरसे से करीब 100 मीटर की दूरी से ही उस जगह को देखना पड़ रहा है। पत्रकारों ने जो बिल्डिंग्स देखी हैं, उसके चारों तरफ पाइन ट्री हैं और ऐसे में देखने से कुछ भी कहना मुश्किल है क्योंकि पहुंच काफी सीमित है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *