हेलिकॉप्टर घोटाले में ‘मिसेज गांधी’ के नाम का खुलासा इटली में भी हुआ था: योगी

लखनऊ। अगस्‍ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर घोटाला मामले में बिचौलिए क्रिस्चन मिशेल द्वारा ‘मिसेज गांधी’ का नाम लेने के बाद देश की राजनीति में एक बार फिर घमासान मच गया है। इस मामले में बीजेपी के सभी मुख्यमंत्रियों के प्रेस कॉन्फ्रेंस करने की शुरुआत यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने की।
सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीएम ने कहा कि क्रिस्चन मिशेल ने ही ‘मिसेज गांधी’ के नाम का खुलासा नहीं किया, बल्कि इटली में ही इसका खुलासा हुआ था।
2016 में कोर्ट के आदेश में आया था ‘मिसेज गांधी’ का नाम
सीएम योगी ने कहा कि इस केस में ‘मिसेज गांधी’ का नाम 2016 में ही सामने आ गया था। साल 2016 में जब इटली की अदालत ने अगस्‍ता घोटाले से जुड़े अधिकारियों को सजा सुनाई थी तो अपने फैसले में कहा था कि कुछ लोग इटली के बाहर के हैं। कोर्ट उन्हें सजा नहीं सुना सकती। योगी ने दावा किया कि इसी आदेश में ‘मिसेज गांधी’ का जिक्र था।
लगातार बोले चोरों वाली कहावतें
योगी ने दावा किया कि मिशेल की गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस ने अपनी वकील भेजा था। कांग्रेस को डर था कि कहीं ‘मिसेज गांधी’ का नाम न आ जाए। योगी ने कांग्रेस को ‘चोर की दाढ़ी में तिनका’, ‘चोर मचाए शोर’, ‘चोरी और ऊपर से सीना जोरी’ वाली कहावतों से संबोधित किया।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी है। इसके बावजदू वह देश के आम नागरिकों और देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करती रही है।
2004 से 2014 तक इस देश के अंदर कोई ऐसा क्षेत्र नहीं था, जहां कांग्रेस ने भ्रष्टाचार न किया हो, जल थल और नभ… हर जगह भ्रष्टाचार कांग्रेस की यूपीए सरकार के कार्यकाल में हुआ है। अगुस्टा वेस्टलैंड मामले में जांच के दौरान जो कड़ियां खुलकर सामने आ रही है, उसको गंभीरता से लेने की जरूरत है। देश के सबसे बड़े राजनीतिक हैसियत रखने वाले परिवार और सोनिया गांधी के बारे में बिचौलिए क्रिस्चन मिशेल की गिरफ्तारी के बाद कई बातें निकलकर सामने आई हैं।
‘कांग्रेस के नेताओं ने ली 150 करोड़ की घूस’
योगी ने कहा कि कांग्रेस ने दुनिया में भारत की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया है। क्रिस्चन मिशेल की गिरफ्तारी से 3700 करोड़ के घोटाले की बात सामने आई। इसमें 307 करोड़ रुपये की रिश्वतखोरी हुई और 150 करोड़ रुपये के आसपास कांग्रेस के नेताओं को मिला है। इंडियन एयर फोर्स द्वारा साल 2009-10 में जिन 12 अगस्‍ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर को खरीदने की जरूरत बताई गई थी, शुरुआत से ही कांग्रेस ने उसमें भ्रष्टाचार किया है। क्रिस्चन मिशेल की गिरफ्तारी के बाद अब पूरी तरह साबित हो चुका है इस पूरे मामले में कांग्रेस की संलिप्तता है।
‘माफी मांगें सोनिया और राहुल’
यूपी के सीएम ने कहा कि कांग्रेस का काम ‘चोरी ऊपर से सीना जोरी’ वाला है। पीछे से चोरी करेंगे और सामने आकर ईमानदार बनेंगे। इस मामले में अब कांग्रेस की पोल खुल गई है। कांग्रेस के अध्यक्ष और ‘मिसेज गांधी’ को सामने आकर माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस अब चोरी और सीनाजोरी की कहावत को चरितार्थ कर रही है, लेकिन कांग्रेस को अपने कृत्यों के लिए देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। अगर कांग्रेस ने सही काम किया होता तो आज समय और पैसे की बचत होती। राहुल गांधी को माफी मांगना चाहिए। इटालियन कोर्ट ने भी माना है कि घोटाला हुआ है और घोटाला इटली के बाहर के लोगों ने किया है और यह कांग्रेस के लोग ही हैं।
गौरतलब है कि अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर घोटाला मामले में आरोपी बिचौलिए क्रिस्चन मिशेल द्वारा ‘मिसेज गांधी’ का नाम लेने को लेकर बीजेपी ने कांग्रेस पर हमले तेज कर दिए हैं। आज सभी बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष इस मुद्दे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पर हमला बोलेंगे। इस तरह बीजेपी इस मुद्दे पर देशभर में कांग्रेस को घेरने की योजना बना रही है।
बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शनिवार को दिल्ली की अदालत में दावा किया कि मिशेल ने पूछताछ में ‘मिसेज गांधी’ और ‘इटली की महिला के बेटे..जो देश के अगले पीएम बनने जा रहे हैं’ का जिक्र किया था। इसके अलावा, ईडी ने कोर्ट में पेश किए गए दस्तावेजों में बताया कि मिशेल ने अन्य लोगों के साथ अपने कम्यूनिकेशंस में एक ‘बड़े आदमी R’ का जिक्र किया है। कोर्ट ने ईडी के अनुरोध पर शनिवार को मिशेल की कस्टडी एक हफ्ते के लिए बढ़ा दिया था।
कोर्ट में ईडी के दावों के बाद कांग्रेस और बीजेपी में वार-पलटवार का सिलसिला शुरू हो गया है। बीजेपी ने जहां ‘चोर मचाए शोर’ कहकर कांग्रेस पर हमला बोला है, वहीं कांग्रेस ने बीजेपी पर अगुस्टा वेस्टलैंड को काली सूची से हटाने का आरोप लगाते हुए ‘उल्टा चोर कोतवाल को डांटे’ कहकर पलटवार किया है। ‘मिसेज गांधी’ के जिक्र पर कांग्रेस ने कहा कि सरकार जांच एजेंसियों पर दबाव डाल रही है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »