रेल मंत्रालय ने जारी की स्टेशनों की स्वच्छता रैकिंग, मथुरा और शाहगंज सबसे गंदे

नई दिल्‍ली। रेल मंत्रालय ने स्टेशनों की स्वच्छता रैकिंग जारी की है। यह बेहद शर्मिंदगी की बात है कि इस लिस्ट में उत्तर प्रदेश का मथुरा और शाहगंज रेलवे स्टेशन सबसे निचले पायदान पर है। भगवान श्रीकृष्‍ण की पावन जन्‍मभूमि के रूप में विश्‍व प्रसिद्ध मथुरा के स्‍टेशन की यह रैंकिंग तो तब है जबकि इसे आइडियल रेलवे स्‍टेशन बनाने का काम पिछले कई वर्षों से जारी है।
मतलब ये दोनों स्टेशन सबसे गंदे स्टेशन की श्रेणी में रखे गए हैं। ए-1 और ए श्रेणी में इन दोनों स्टेशन को 407 रैंक मिली है। यह रैंक मंत्रालय ने यात्रियों के फीडबैक, पहली नजर में देखने, इंफ्रास्ट्रक्चर, साफ सफाई और स्वस्छता के आधार पर तय की है।
आश्चर्य की बात है कि रेलवे के तीनों जोनों में से कोई भी जोन टॉप 10 में जगह नहीं बना पाया है। वहीं नॉर्थ सेंट्रल रेलवे 16 जोन की लिस्ट में सबसे नीचे है। इस बार की रैंक 2017 में तय की गई रैंक से भी नीचे आ गई है। पिछले साल नॉर्दन रेलवे को 14 वीं रैंक मिली थी। नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे को पिछले साल लिस्ट में 7वीं रैंक मिली थी लेकिन इस बार वह 12वीं रैंक पर आ गया है।
यहां चार ए-1 रेलवे स्टेशन थे जिनकी 50 करोड़ रुपये से मरम्मत की गई थी। इनमें मथुरा को 75वां, वाराणसी को 69, झांसी को 68 रैंक मिली है। इसके अलावा ए श्रेणी के स्टेशन में शाहगंज, फाफामऊ और अयोध्या निचले पायदान पर हैं। सभी ए-1 श्रेणी के 75 स्टेशनों और 332 ए श्रेणी के स्टेशनों की रैंक में यूपी पिछड़ गया है।
ए-1 श्रेणी के स्टेशन में इलाहाबाद सबसे अच्छा रहा है। उसे 33 वीं रैंक मिली है। वहीं आगरा कैंट को 37वीं, गोरखपुर जंक्शन को 44वीं, लखनऊ जंक्शन एनईआर को 45वीं, कानपुर को 61 और चारबाग स्टेशन को 64वीं रैंक मिली है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »