किश्‍तवाड़ में आरएसएस नेता और उनके सुरक्षा अधिकारी की हत्‍या

श्रीनगर। जम्मू-कश्‍मीर के जिला किश्तवाड़ में आज आतंकवादियों ने राष्‍ट्रीय स्‍वंय सेवक संघ के नेता चंद्रकांत शर्मा और उनके पीएसओ की गोली मारकर हत्या कर दी। आतंकियों की गोलीबारी में एक अन्‍य नागरिक भी मारा गया। यह आदमी अस्‍पताल में अपना रूटीन चेकअप कराने आया था।
बताया जाता है कि आतंकियों की गोलीबारी में चंद्रकांत बुरी तरह से घायल हो गए थे, जिन्‍हें जम्‍मू लाया जा रहा था लेकिन उन्‍होंने रास्‍ते में ही दम तोड़ दिया।
आतंकी हमले के बाद किश्तवाड़, डोडा और भद्रवाह में कर्फ्यू लगा दिया गया है। सेना को बुलाया गया है जिसने फ्लैग मार्च किया है। आतंकी पीएसओ की बंदूक लेकर भी भाग गए।
आरएसएस से भी जुड़े चंद्रकांत किश्तवाड़ के जिला अस्पताल में चिकित्सा सहायक के पद पर कार्यरत थे।
बताया जा रहा है कि हमलावरों ने बुर्का पहना हुआ था। इस घटना के बाद पूरे इलाके में हालात तनावपूर्ण हो गए हैं, जिस कारण कर्फ्यू लगा दिया गया है। किश्तवाड़ के अलावा डोडा और भद्रवाह में कर्फ्यू लगा दिया है। ये इलाके सांप्रदायिक तौर पर काफी संवेदनशील माने जाते हैं।
बताया जाता है कि चंद्रकांत के ऊपर हमला अस्पताल की ओपीडी में किया गया। जहां वह अपने बॉडीगार्ड के साथ मौजूद थे। इसी दौरान बुर्का पहने हुए एक व्यक्ति ने उन पर फायरिंग शुरू कर दी। इसके साथ ही हमलावर बॉडीगार्ड का हथियार भी छीनकर फरार हो गया। जैसे ही अस्पताल के अंदर यह हमला किया गया, उससे वहां अफरा-तफरी मच गई।
पुलिस ने पूरे इलाके को घेर लिया है। बताया जा रहा है कि अस्पताल के बाहर पाकिस्तान विरोधी नारेबाजी भी की गई है।
आरएसएस कार्यकर्ता मेडिकल असिस्टेंट चंद्रकांत सिंह, परिहार बंधुओं के भी काफी करीबी थे। आरएसएस और भाजपा से जुड़े होने के कारण उन्हें 1996 में भी मारने की धमकी दी गई थी, जिसके बाद पुलिस प्रशासन ने उनकी सुरक्षा को यकीनी बनाने के लिए उनके साथ दो पीएसओ तैनात कर रखे थे। परिहार बंधुओं की हत्या के बाद चंद्रकांत की सुरक्षा को और पुख्ता करते हुए उनके साथ दो अतिरिक्त पीएसओ की तैनाती कर दी गई।
गौरतलब है कि पिछले वर्ष नवंबर में किश्तवाड़ में आतंकियों ने परिहार बंधुओं की भी गोलियों से भूनकर हत्या कर दी थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »