पश्‍चिम बंगाल में वोटिंग के दौरान हिंसा का मुद्दा चुनाव आयोग पहुंचा, राहुल की भी शिकायत

नई दिल्‍ली। बीजेपी के मुख्तार अब्बास नकवी और विजय गोयल समेत एक प्रतिनिधि दल ने चुनाव आयोग से पश्चिम बंगाल में मतदान के दौरान हिंसा के मामले की शिकायत की और प्रदेश के सभी बूथों पर सेंट्रल फोर्स तैनात करने की मांग की।
प्रतिनिधि मंडल ने चुनाव आयोग से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की भी शिकायत की। पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष के लिए राहुल गांधी की भाषा को अभद्र बताते हुए नकवी ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष बेबुनियाद आरोप लगाकर आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं।
गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी रैलियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ लगातार हमलावर हैं।
बीजेपी के राज्यसभा सांसद और मोदी सरकार में मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी और विजय गोयल ने चुनाव आयोग जाकर राहुल गांधी की भाषा को अभद्र और आपत्तिजनक बताते हुए शिकायत की।
चुनाव आयोग से शिकायत करने के बाद नकवी ने मीडिया से भी बात की और कहा कि राहुल गांधी ने न सिर्फ आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है बल्कि चुनाव नियमों को भी तोड़ा है।
नकवी ने कहा, ‘कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा बार-बार देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और हमारी पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के लिए अभद्र और अपमानजनक भाषा का प्रयोग किया जा रहा है।
उन्होंने प्रधानमंत्री और बीजेपी अध्यक्ष के बारे में अभद्र भाषा का प्रयोग किया और बेतुके आरोप लगाए गए हैं वह आचार संहिता का उल्लंघन है।’
बीजेपी नेता ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष की इस भाषा को लेकर चुनाव आयोग से शिकायत की गई है। उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी के अनर्गल बयान पर सुप्रीम कोर्ट ने भी संज्ञान लिया है।
प्रधानमंत्री को चोर कहना प्रधानमंत्री को अपराधी कहना हमारे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को हत्या का आरोपी और हत्यारा कहना… यह चुनावी कानूनों में पूरी तरह से अपराध की श्रेणी में आता है। कांग्रेस अध्यक्ष पूरी तरह से निराश हो चुके हैं और अब वह गाली गैंग का हिस्सा बन गए हैं।’
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए चौकीदार चोर है का नारा राहुल गांधी अपनी रैली में अक्सर देते हैं। छत्तीसगढ़ की एक रैली में अमित शाह के लिए भी उन्होंने हत्या के आरोपी शब्द का प्रयोग किया था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *