यूरोपीय संघ का ईरान को भरोसा: परमाणु करार कायम रखेंगे

यूरोपीय संघ ने ईरान को भरोसा दिलाया है कि वो ईरान के साथ हुए परमाणु करार पर कायम रहेंगे.
इससे पहले अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने इस समझौते से अमरीका के बाहर निकलने की घोषणा कर दी और ईरान पर नए सिरे से प्रतिबंध लगाए हैं.
ब्रितानी अख़बार ‘द इंडीपेंडेंट’ ने ऊर्जा और जलवायु परिवर्तन मामले के यूरोपीय कमिश्नर मिग्वेल एरियास कैनिट के हवाले से कहा है कि 28 देशों का उनका संघठन ईरान के तेल का सबसे बड़ा आयातक है और वो उसके साथ व्यापारिक रिश्तों को और बढ़ावा देना चाहता है.
शनिवार को ईरान यात्रा के दौरान कैनिट ने कहा, “हमने अपने ईरानी दोस्तों को ये संदेश भेज दिया है कि वे जब तक समझौते पर कायम रहेंगे यूरोप अपनी प्रतिबद्धताओं का पालन करेगा.”
इससे पहले ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने मंगलवार को ये भरोसा दिलाया कि उनका देश बहुराष्ट्रीय परमाणु समझौते पर ‘डटा’ रहेगा.
इस समझौते से अमरीका के बाहर निकलने के बाद हसन रूहानी ने कहा कि अगर दूसरे देश सहयोग बनाए रखते हैं तो ईरान पीछे नहीं हटेगा.
अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते से अमरीका को अलग करने की घोषणा के कुछ मिनट बाद ही रूहानी ने कहा, “अगर हम अन्य सदस्य देशों के साथ सहयोग समझौते के उद्देश्यों को प्राप्त करते हैं तो यह संधि बरकरार रहेगी.”
ईरानी राष्ट्रपति ने शिकायत भरे लहजे में कहा, “अमरीका अंतर्राष्ट्रीय समझौते की अपनी प्रतिबद्धता पर कायम नहीं रहता है.”
पांच प्वाइंट्स में समझिए ईरान का परमाणु समझौता
ईरान में दो जगहों, नाटांज और फोर्डो में यूरेनियम का संवर्धन किया जाता है. जिसका उपयोग परमाणु ऊर्जा के लिए किया जाता है. इसका उपयोग परमाणु हथियारों को विकसित करने के लिए किया जा सकता है.
जुलाई 2015 में ईरान के पास 20 हज़ार ऐसे मशीनी केंद्र थे, जहां यूरेनियम के रासायनिक कणों को अलग किया जाता था.
ज्वाइंट एंड कम्प्लीट एक्शन प्लान के तहत इसकी संख्या 5,060 तक सीमित करने को कही गई थी. ईरान ने वादा किया था कि वो अपने यूरेनियम का भंडार 98 फीसदी तक घटाकर 300 किलोग्राम तक करेगा.
जनवरी 2016 में ईरान ने यूरेनियम केंद्रों की संख्या कम की और सैंकड़ों किलोग्राम लो-ग्रेड यूरेनियम रूस भेजा था.
समझौते के तहत शोध और विकास के कार्यक्रम सिर्फ नाटांज में अधिकतम आठ सालों तक किया जा सकेगा. वहीं, फोर्डो में अगले 15 सालों तक इस पर रोक लगाने की बात कही गई है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »