30 अप्रैल को ब्रह्म मुहूर्त में खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट

टिहरी। बद्रीनाथ के कपाट आगामी 30 अप्रैल को ब्रह्म मुहूर्त में आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिये जाएंगे। टिहरी जिले के नरेंद्रनगर स्थित टिहरी राजदरबार में ज्योतिषविदों ने बसन्त पंचमी पर यह तिथि निकाली है।
इसके अलावा भगवान बद्रीनाथ के महाभिषेक में प्रयुक्त होने वाले तिलों के तेल को निकालने के लिए तिल पेरने की भी तिथि 18 अप्रैल निश्चित हुई है।
उधर अब देश विदेश से चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं और पर्यटकों को उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद में अवस्थित चारधाम यात्रा कंट्रोल रूम से सहायता दी जाएगी। किसी भी जानकारी के लिए कंट्रोल रूम से संपर्क कर सकते हैं। यह कंट्रोल रूम सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक खुला रहता है।
साल 2019 में पहुंचे थे रिकॉर्ड श्रद्धालु
साल 2019 में पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ कर चारधाम और हेमकुंड साहिब में 34 लाख 81 हजार श्रद्धालु पहुंचे थे। कंट्रोल रूम से प्राप्त जानकारी के अनुसार साल 2013 की आपदा के बाद से यह चारधाम यात्रा कंट्रोल रूम स्थापित किया गया था। पिछले पांच सालों से चारधाम एवं हेमकुण्ड यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्रियों के साथ साथ उत्तराखंड के पर्यटक स्थलों को घूमने आने वाले पर्यटकों को इस कंट्रोल रूम से जानकारी दी जा रही है।
कंट्रोल रूम की हैं कई सुविधाएं
चारधाम यात्रा के लिए मौसम, सड़क, परिवहन, होटल बुकिंग, हेलिकॉप्‍टर सेवा, वाहन बुकिंग, किराया, स्वास्थ्य चैकअप, मोबाईल ऐप, फोटो मीट्रिक रजिस्‍ट्रेशन आदि की जानकारी दी जाती है। यात्राकाल में यह कंट्रोल रूम सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक खुला रहता है।
इसके अलावा किसी श्रद्धालु और पर्यटक के साथ अप्रिय घटना होने पर निकटतम आपदा सहायता केंद्र को राहत के लिए सूचित किया जाता है। किसी व्यक्ति के साथ अभद्रता, ओवर रेट, ठगी, वाहन चालकों का मनमाना किराया आदि के लिए निकटतम पुलिस चौकी और स्थानीय प्रशासन को सूचित किया जाता है।
पर्यटकों ने की कंट्रोल रूम की सराहना
साल 2019 में यमुनोत्री में 4 लाख 65 हजार 534, गंगोत्री में 5 लाख 30 हजार 334, केदारनाथ में 10 लाख 21 हजार, बद्रीनाथ में 12 लाख 44 हजार 993 और हेमकुंड में 2 लाख 40 हजार 133 श्रद्धालु पहुंचे। हाल के वर्षों में यात्रा के बाद घर वापस लौटने पर चारधाम की यात्रा पर आए लोगों ने पर्यटन विभाग और कंट्रोल रूम की सराहना की है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *