पाकिस्तान में लापता हजरत निजामुद्दीन औलिया की दरगाह के दो मौलवियों का मामला गरमाया

The case of two clerics of the dargah of Hazrat Nizamuddin Auliya missing in Pakistan
पाकिस्तान में लापता हजरत निजामुद्दीन औलिया की दरगाह के दो मौलवियों का मामला गरमाया

नई दिल्ली। हजरत निजामुद्दीन औलिया की दरगाह के दो मौलवियों के पाकिस्तान जाकर लापता हो जाने का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। भारत ने शुक्रवार को पाकिस्तान से कहा है कि वह लाहौर में बुधवार से लापता हुए दोनों भारतीय नागरिकों से जुड़ी जानकारी मुहैया कराए। खुद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर बताया भारत ने पाकिस्तान के सामने यह मसला उठाया है। उधर आसिफ निजामी के बेटे आमिर निजामी ने भी सरकार से इस मामले में तुरंत ऐक्शन लेने की अपील की है।
बता दें कि आसिफ निजामी और उनके भाई नाजिम निजामी धार्मिक यात्रा पर पाकिस्तान गए थे, लेकिन बुधवार को वे लापता हो गए। इस्लामाबाद में भारत के राजदूत ने भी पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय में इस संबंध में गुरुवार शाम कड़ी शिकायत दर्ज कराई। सूत्र आशंका जता रहे हैं कि दोनों मौलवियों को ISI ने उठाया है, लेकिन इसकी वजह साफ नहीं हो पाई है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शुक्रवार सुबह ट्वीट कर कहा, ‘हमने इस मुद्दे को पाकिस्तान की सरकार के सामने उठाया है और उनसे आग्रह किया है कि दोनों भारतीय नागरिकों के संबंध में जानकारी दें।’
We have taken up this matter with Government of Pakistan and requested them for an update on both the Indian nationals in Pakistan./4
—Sushma Swaraj (@SushmaSwaraj) March 17, 2017
इस बीच लापता मौलवियों में से एक आसिफ निजामी के बेटे आमिर निजामी ने भी सरकार से तुरंत ऐक्शन लेने की अपील की है। आमिर ने कहा , ‘हम भारत सरकार से दोनों लोगों का पता लगाने की अपील करते हैं। वे पवित्र यात्रा पर पाकिस्तान गए थे और अब उनके बारे में कोई जानकारी नहीं है। हम दरगाह के लोग हैं और जल्द ही उनके देश वापसी चाहते हैं। सरकार से भी हमारी यही गुजारिश है।’
बता दें कि पाकिस्तान में सूफियों को इस्लामी जिहादियों द्वारा पिछले दिनों निशाना बनाए जाने के कई मामले सामने आए हैं। हालांकि सुरक्षा सूत्रों का मानना है कि भारत के मौलवियों के लापता होने में जिहादी तत्वों का हाथ नहीं है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *