चीनी कंपनी HUAWEI को हटाने के लिए ब्रिटिश सरकार ने कीं कई घोषणाएँ

लंदन। ब्रिटेन के 5जी मोबाइल नेटवर्क से चीनी फ़ोन निर्माता कंपनी HUAWEI को हटाने के लिए ब्रिटिश सरकार ने कई घोषणाएँ की हैं.
इसके तहत ब्रिटेन के मोबाइल सेवा प्रदाताओं को इस साल के बाद HUAWEI के नए 5जी उपकरण ख़रीदने पर पाबंदी होगी और साथ ही उन्हें अपने नेटवर्क से 2027 तक इसकी 5जी किट को हटाना होगा.
ब्रिटेन की सरकार ने पहले इस बात पर सहमति ज़ाहिर की थी कि चीनी कंपनी HUAWEI की ब्रिटेन के 5जी नेटवर्क में सीमित भूमिका रहेगी लेकिन चीन को लेकर बढ़ती सुरक्षा चिंताओं के मद्देनज़र अब सरकार ने अपना मन बदल लिया है.
HUAWEI क्या है?
दक्षिणी चीन के शेंजन में एक पूर्व सैन्य अधिकारी रेन जंगफ़ेई ने 1987 में HUAWEI की शुरुआत की थी.
इसने शुरुआत में मोबाइल फ़ोन नेटवर्क के लिए संचार उपकरण बनाने शुरू किए थे और बाद में यह विश्व में एक बड़ी कंपनी के तौर पर उभरी जिसमें 1,80,000 कर्मचारी काम करते हैं.
सैमसंग के बाद HUAWEI दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी स्मार्टफ़ोन सप्लायर कंपनी है जिसका 18 फ़ीसदी बाज़ार पर क़ब्ज़ा है जो ऐपल और बाक़ी कंपनियों से आगे है.
HUAWEI को लेकर कौन-कौन से देश हैं चिंतित?
इस कंपनी को लेकर पूरी बहस इस पर टिकी है कि क्या पश्चिमी देश HUAWEI पर भरोसा करते हैं या फिर हमारे मोबाइल फ़ोन भी इस कंपनी की गिरफ़्त में हैं?
अमरीका कहता है कि 5जी उपकरणों के ज़रिए चीन HUAWEI का इस्तेमाल जासूसी के लिए कर सकता है. इसमें कंपनी के मालिक रेन की सैन्य पृष्ठभूमि का हवाला दिया जाता है.
रेन 1983 तक चीनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के नौ साल तक सदस्य रहे. वो चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य भी हैं.
हालांकि, HUAWEI का कहना है कि इसका कंपनी से अब कोई लेना-देना नहीं है. कंपनी कहती है, “रेन जंगफ़ेई जब युवा थे तब आपको कम्युनिस्ट पार्टी की किसी भी पद की ज़िम्मेदारी लेना आवश्यक था.”
अमरीका अपने यहाँ कंपनियों को HUAWEI के साथ व्यापार करने पर प्रतिबंध लगा चुका है और चाहता है कि उससे जुड़ी सहयोगी कंपनियों को भी 5जी नेटवर्क से हटाया जाए. ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड ने भी अमरीका की तरह क़दम उठाए हैं.
ब्रिटेन के लिए HUAWEI को प्रतिबंधित करना ब्रिटेन-अमरीका के बीच व्यापार बातचीत के लिए ज़रूरी है क्योंकि अमरीका ने चेतावनी दी थी कि इस तरह का फ़ैसला न लेने से भविष्य के सुरक्षा सहयोग पर ख़तरा हो सकता है लेकिन अब ब्रिटेन में HUAWEI के उपकरणों को 5जी नेटवर्क में प्रतिबंधित कर देने से चीन के जवाबी हमले का ख़तरा बढ़ गया है जिसमें संभावित साइबर हमला भी शामिल है.
5जी: क्या हैं मुद्दे?
अधिकतर देश अपने यहाँ 4जी से अधिक उन्नत 5जी मोबाइल नेटवर्क खड़ा करने की तैयारी कर रहे हैं. इसकी वजह से आज जो डाउनलोड स्पीड है वो उसकी 10 गुना होगी यानी इससे हमारे काम करने, बातचीत करने और वीडियो देखने में बड़ा बदलाव आएगा.
सैद्धांतिक रूप से अगर बात करें तो इन नेटवर्क के केंद्रीय तकनीकों का नियंत्रण दे देने से भविष्य में कोई भी विवाद होने पर HUAWEI को जासूसी करने या संचार बाधित करने की ताक़त दे देगा.
यह इसलिए भी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि भविष्य में सेल्फ़ ड्राइविंग कार से लेकर फ़्रिज, बेबी मॉनिटर और फ़ायर अलार्म्स इंटरनेट से जुड़े होंगे.
इनको लेकर ये भी चिंताएँ हैं कि सरकार समर्थित हैकर्स इन उपकरणों का इस्तेमाल करके पिछले दरवाज़े से रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण नेटवर्क में सेंधमारी कर सकते हैं. उदाहरण के तौर पर यह विरोधी के पावर स्टेशन तक को बंद कर सकते हैं.
HUAWEI के उपकरणों के नेटवर्क में इस्तेमाल से प्रतिबंधित कर देने से ब्रिटेन की 5जी तकनीक को ज़मीन पर उतार पाने पर अच्छा-ख़ासा असर पड़ेगा.
संस्कृति मंत्री ऑलिवर डाउडन कह चुके हैं कि इसके कारण 5जी में दो से तीन साल की देरी होगी और 2 अरब पाउंड का भार बढ़ेगा.
क्या HUAWEI हमारी जासूसी कर रहा है?
अमरीका चीन के 2017 के नेशनल इंटेलिजेंस लॉ का हवाला देता है, जिसके तहत किसी भी संगठन को ‘राष्ट्र के ख़ुफ़िया काम में समर्थन और सहयोग देना आवश्यक है’, इसका मतलब है कि चीन HUAWEI को किसी काम के लिए आदेश दे सकता है.
वहीं, HUAWEI का कहना है कि उससे कभी भी जासूसी के लिए नहीं कहा गया है और वो ‘स्पष्ट रूप से इसको न करने के लिए ही कहेगा.’
कंपनी का आगे कहना है, “जब साइबर-सुरक्षा और उपभोक्ता की निजी सुरक्षा का मसला आएगा तो हम कभी भी इससे समझौता नहीं करेंगे और न ही कभी भी किसी देश, संगठन और व्यक्ति को नुक़सान पहुँचाएँगे.”
कंपनी की निगरानी के लिए ब्रिटेन ने नेशनल साइबर सिक्योरिटी सेंटर (एनसीएससी) के तहत एक ख़्वावे साइबर सिक्योरिटी एवेलुएशन सेंटर बनाया है.
मार्च 2019 में इसने चीनी सरकार की किसी विद्वेषपूर्ण हरकत के सबूत नहीं पाए थे हालांकि इसने ख़्वावे के सॉफ़्टवेयर इंजीनियरिंग और साइबर-सुरक्षा क्षमता में गंभीर कमियां पाई थीं.
14 जुलाई को प्रतिबंध की घोषणा करते हुए डाउडन ने कहा था कि एनसीएससी ने ब्रिटेन के 5जी नेटवर्क में HUAWEI की उपस्थिति पर ‘अपने सुरक्षा मूल्यांकन को काफ़ी बदल दिया है.’ उन्होंने कहा कि कंपनी के ख़िलाफ़ अमरीका के कड़े क़दम के बाद यह फ़ैसला किया जा रहा है लेकिन उन्होंने इस पर और कोई जानकारी नहीं दी.
5जी के लिए ख़्वावे के अलावा कोई विकल्प है?
अमरीका के ख़रीदार निश्चित रूप से अमरीकी कंपनियों से ही किट ख़रीदने के पक्षधर होंगे जिनमें सिस्को, जूनिपर नेटवर्क्स और क्वेलकॉम जैसी कंपनियाँ शामिल हैं.
यूरोप में स्वीडन की एरिक्सन और फ़िनलैंड की नोकिया 5जी निर्माता हैं.
नोकिया कंपनी ने एक बयान जारी किया था जिसमें उसने कहा था कि उसके पास ब्रिटेन के नेटवर्क में HUAWEI के उपकरण को बदलने की क्षमता और विशेषज्ञता है जो वो पूरी रफ़्तार से कर सकती है.
हालांकि, सरकार ने कहा है कि वो इस मामले में ‘कई कंपनियों’ को देखेगी और एक टेलिकॉम सिक्योरिटी बिल लेकर आएगी.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *