चीन की सेना का रवैया पाकिस्तान समर्थित कश्‍मीर के पत्थरबाजों जैसा

लद्दाख। प्रोफेशनल होने का दावा करने वाली चीन की सेना की हकीकत पिछले दिनों बॉर्डर पर भारतीय सैनिकों से झड़प के दौरान सामने आ गई। पूर्वी लद्दाख के पेंगोंग त्सो झील वाले इलाके में 5 मई को हुई झड़प के वक्त चीन के सैनिक अपने साथ डंडे, कांटेदार तार और पत्थर लेकर आए थे।
न्यूज़ एजेंसी एनएनआई ने सूत्रों के हवाले से ये रिपोर्ट दी है। इसके मुताबिक चीन की सेना का रवैया पाकिस्तान समर्थित उन पत्थरबाजों जैसा था, जो कश्मीर में भारतीय जवानों पर हमला करते हैं।
चीन के सैनिकों ने गुंडों जैसा बर्ताव किया
चीन के सैनिक संख्या में भारतीय जवानों से ज्यादा थे, फिर भी अन-प्रोफेशनल तरीके से पेश आए और बेवजह की उग्रता दिखाई। उनका रवैया बिल्कुल गुंडों जैसा था। उन्होंने भारतीय जवानों के चारों ओर टिड्डियों जैसा घेरा बना लिया था।
दूसरी ओर भारतीय जवान कभी भी इस तरह की हरकत नहीं करते जबकि सालभर छोटी-मोटी झड़पें होती रहती हैं।
5 मई को पेंगोंग झील के पास क्या हुआ था?
उस दिन शाम के वक्त झील के उत्तरी किनारे पर फिंगर-5 इलाके में भारत-चीन के करीब 200 सैनिक आमने-सामने हो गए। भारत ने चीन के सैनिकों की मौजूदगी पर ऐतराज जताया। पूरी रात टकराव के हालात बने रहे। अगले दिन तड़के दोनों तरफ के सैनिकों के बीच झड़प हो गई। बाद में दोनों तरफ के आला अफसरों के बीच बातचीत के बाद मामला शांत हुआ।
चीन के रवैए को देखते हुए तनाव बढ़ने की आशंका
लद्दाख में चीन और भारतीय सैनिकों के बीच इस महीने तीन बार झड़प हो चुकी है। चीन ने नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास भारतीय इलाकों में घुसपैठ कर अस्थाई ठिकाने बना लिए हैं। उसने एलएसी के पास करीब 5 हजार सैनिक तैनात कर दिए हैं। जवाब में भारतीय सेना ने भी जवानों की संख्या बढ़ा दी है। चीन के रवैए को देखते हुए आने वाले दिनों में तनाव और बढ़ने की आशंका बनी हुई है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *