15वें वित्त आयोग ने माना, उप्र में व‍िकास की संभावनाओं के साथ चुनौत‍ियां ज्यादा हैं

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के तीन दिनी दौर पर पहुंचे 15वें वित्त आयोग ने आज मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भेंट की। आयोग की टीम चार दिवसीय उत्तर प्रदेश के दौरा पर है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने वित्त आयोग के अध्यक्ष एनके सिंह का स्वागत किया।

15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष एनके सिंह की अध्यक्षता में वित्त आयोग, इसके सदस्य और वरिष्ठ अधिकारियों ने आज उत्तर प्रदेश के ग्रामीण स्थानीय निकायों के प्रतिनिधियों के साथ मुलाकात की। प्रतिनिधि आयोग को उनके सिफारिशें पेश किया।

15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष एनके सिंह की अध्यक्षता में वित्त आयोग, इसके सदस्य और वरिष्ठ अधिकारियों ने आज उत्तर प्रदेश के ग्रामीण स्थानीय निकायों के प्रतिनिधियों के साथ मुलाकात की। प्रतिनिधि आयोग को उनके सिफारिशें पेश किया।

15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष एनके सिंह ने आज लोकभवन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भेंट की। इससे पहले शनिवार व रविवार को वित्त आयोग ने वाराणसी का दौरा किया जबकि सोमवार को लखनऊ में वित्त विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। आयोग ने माना कि उत्तर प्रदेश ने वित्त के क्षेत्र में प्रदर्शन सुधारा है। इसके साथ ही कुछ अन्य में उसने नए प्रयोग किए हैं जिन पर आयोग ने गौर फरमाया है।

कारोबार में सहूलियत : उप्र ने छलांग लगाते हुए 2016-17 के दौरान देश में 14 से 12वां स्थान हासिल किया

उत्तर प्रदेश के खाते में कुछ उपलब्धियां भी हैं। कारोबार में सहूलियत देने के मामले में उप्र ने छलांग लगाते हुए 2016-17 के दौरान देश में 14वें से 12वां स्थान हासिल किया। प्रदेश में सूक्ष्म, लघु व मध्यम दर्जे के उद्योगों का मजबूत आधार है। प्रदेश में 89.99 लाख एमएसएमई संचालित हैं जो कि देश के कुल छोटे उद्योगों का 14.2 फीसद है। एमएसएमई सेक्टर प्रदेश में रोजगार मुहैया कराने का बड़ा स्रोत है। हालांकि राज्य में एमएसएमई सेकटर को क्रेडिट, तकनीकी, कच्चा माल और मार्केटिंग के मोर्चों पर सुदृढ़ करने की जरूरत है। पर्यटन क्षेत्र में भी उप्र में अपार संभावनाएं हैं।

पंद्रहवें वित्त आयोग ने उद्योगों की स्थापना के लिए शुरू किये गए निवेश मित्र पोर्टल, युवाओं को रोजगार देने के लिए संचालित मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना, परंपरागत हस्तशिल्पों को प्रोत्साहन देने के लिए संचालित विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना आदि पर भी गौर फरमाया है।

गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के अधिकारियों के छूटे पसीने 

वाराणसी में शनिवार व रविवार को 15वें वित्त आयोग की टीम ने एसटीपी से संबंधित कई प्रश्न पूछे, जिस पर गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के अधिकारियों के पसीने छूट गए। गंगा व वरुणा में गिर रहे सीवर नालों को बंद करने की अंतिम तिथि पूछा तो जवाब मिला मार्च 2020 तक। जब पूछा गया कि शाही नाला और उसकी ब्रांच व अन्य नाले कब टैप होगा तो अधिकारी अवाक रह गए। इसके बाद प्रदेश जल निगम के संयुक्त प्रबंध निदेशक संजय कुमार खत्री ने कहा इसके लिए प्राक्कलन रिपोर्ट तैयार हो गई है। निविदा प्रक्रिया शुरू है। 2020 के अंत तक यह कार्य हो जायेगा।

वित्त आयोग के चेयरमैन एनके सिंह के नेतृत्व में दो दिवसीय दौरे के दूसरे दिन रविवार को दोपहर बाद टीम एसटीपी दीनापुर पहुंची थी। आयोग ने 140 और 80 एमएलडी के प्लाट की कार्यप्रणाली से संबंधित तकनीकी और व्यवहारिक पहलुओं पर लगभग आधे घटे तक विस्तारपूर्वक अधिशासी अभियंता विवेक सिंह से पूछताछ की। एक सदस्य ने जब पूछा कि गंगा में स्नान योग्य पानी कब तक हो जायेगा, तो अधिकारी चुप्पी साध गए।

सदस्यों ने गंगा के वाराणसी में प्रवेश करने और बाहर जाने पर जल की गुणवत्ता बनाए रखने को कहा। टीम ने शोधन संयंत्रों की कार्य कुशलता, क्षमता के अनुरूप संचालन, आसपास गावों के लोगों की प्रतिक्रिया पर भी सवाल पूछा। बिजली उत्पादन, प्लांट संचालन में खर्च होने वाली बिजली, शोधित जल में बीओडी व टीएसएस की मात्रा भी पूछा। उन्होंने एसटीपी द्वारा शोधित जल का नमूना भी देखा। इसके पूर्व टीम के सदस्यों ने लालपुर स्थित टीएफसी का निरीक्षण व सारनाथ का भ्रमण किया। शाम को सभी लखनऊ के लिए रवाना हो गए।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *