जब पं. ओंकारनाथ ठाकुर की आवाज़ में गूंजा था वन्दे मातरम्

पण्डित ओंकारनाथ ठाकुर ने भारतीय शास्त्रीय संगीत को सात समंदर पार पहुंचाया, आज ही के द‍िन सन् 1897 को उनका जन्म हुआ था। उनका गाया वंदेमातरम या ‘मैया मोरी मैं नहीं माखन खायो’ सुनने पर एक रूहानी अनुभूति होती है। दुष्यंत कुमार त्यागी की एक रचना की प्रारंभिक पंक्ति है- मैं जिसे ओढ़ता-बिछाता हूँ , वो ग़ज़ल आपको सुनाता हूँ । इसी तरह संगीत की साधना और भावपूर्ण तथा दमदार गायकी पंडित ओंकारनाथ ठाकुर के जीवन का अभिन्न अंग बन गये थे।
15 अगस्त, 1947 जब देश स्वतंत्र हुआ तो सुबह 6:30 बजे आकाशवाणी से पं. ओंकारनाथ ठाकुर का राग देश में निबद्ध वन्दे मातरम् के गायन का प्रसारण किया गया था. उनकी इस प्रस्तुति को आज भी सहेज कर रखा गया है.

जब अन‍िद्रा से ग्रस्त मुसोलिनी को 15 मिनट में गहरी नींद आ गई
ठाकुर ने विनम्र तौर पर मुसोलिनी से अनुरोध किया कि वो रात के डिनर में आज केवल शाकाहारी भोजन लें. मुसोलिनी ने वैसा ही किया. खाने के बाद उन्होंने अपने हिंडोलाम के साथ आलाप लेनी शुरू की. वो राग पूरिया का आलाप ले रहे थे. नोट्स पहले तो हल्के थे फिर वो तेज होते गए. एक अजीब सी कशिश थी राग में. हर कोई इससे बंधा हुआ था. 15 मिनट के भीतर ही मुसोलिनी सो गया. पंडित ओंकारनाथ ठाकुर के संगीत और राग पर पकड़ का लोहा हर कोई मानता था. मुसोलिनी ने तो उन्हें रोम में बड़ा ओहदा देने की पेशकश की थी लेकिन उन्होंने विनम्रता से मना कर दिया था

भारतीय शास्त्रीय संगीत की बात आती है तो उसमें पंडित ओंकारनाथ ठाकुर का नाम बड़े ही सम्मान से लिया जाता है. वे ऐसे संगीतज्ञ थे जिसकी तारीफ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी भी करते थे. महामना मदनमोहन मालवीय भी उनसे बेहद प्रभावित थे. ओंकारनाथ ठाकुर पहले ऐसे संगीतज्ञ थे जिन्होने संगीतज्ञों को उनका पारितोषिक दिलाना शुरू किया.

संगीतज्ञों की हकों को वह मुखर होकर उठाते थे. सरदार पटेल भी उनकी गायकी को पंसद करते थे. ओंकारनाथ ठाकुर के पिता नाना साहब पेशवा की सेना में योद्धा थे. उनका जन्म गुजरात के बड़ौदा में हुआ था. यही उनकी प्राथमिक शिक्षा आरंभ हुई. ओंकारनाथ के घर की माली हालत ठीक नहीं थी उनका बचपन सीमित संसाधनों में बीता.

बचपन में हो गया था पिता का देहांत
बचपन में ही उनके पिता का देहांत हो गया. इसी दौरान एक संगीत प्रेमी ने उनकी गायकी की प्रतिभा को पहचान लिया और संगीत की शिक्षा के लिए मुंबई के विष्णु दिगंबर संगीत महाविद्यालय में शिक्षा लेने के लिए भेज दिया. उनकी शिक्षा पंडित विष्णु दिगंबर पलुस्कर के दिशा निर्देशन में शुरू हुई.

उन्होंने अपनी गायकी का प्रर्दशन नेपाल में भी किया. वहां के महाराज के वे दरबारी गायक बन गए. इसके साथ ही उन्होने जर्मनी, इटली, फ्रांस, इंग्लैंड, स्विट्जरलैंड और रूस में भी अपनी गायकी जलबा बिखेरा.

‘संगीत निकेतन की स्थापना’

पत्नी के निधन के बाद वे अकेले ही रहे और मुंबई में संगीत निकेतन की स्थापना की. वे बेहद प्रतिभाशाली थे. जब वे बीस वर्ष के थे उन्हें लाहौर के गंधर्व संगीत विद्यालय का प्रिंसिपल बनाया गया.

मदन मोहन मालवीय ने उन्हें एक बार काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शामिल होने का न्यौता दिया, काशी आकर उन्हें इतना अच्छा लगा कि वे यहीं बस गए.

-Legend news

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *