कोरोना का करम: FATF ने चेतावनी के साथ पाक को दी चार महीने की मोहलत

फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स FATF ने कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए पाकिस्‍तान को चार महीने की अंतरिम राहत दे दी है। FATF की ग्रे लिस्‍ट में चल रहे पाकिस्‍तान के ब्‍लैक लिस्‍ट होने पर फैसला जून में होना था। इसी बैठक में यह तय होगा कि क्‍या पाकिस्‍तान को ग्रे लिस्‍ट से हटाया जाए या उसे ब्‍लैक लिस्‍ट किया जाए।
FATF ने एक बयान जारी करके कहा कि निगरानी सूची में शामिल पाकिस्‍तान को वह चार महीने की अतिरिक्‍त राहत दे रहा है। इस दौरान पाकिस्‍तान को आतंकियों के वित्‍त पोषण को बंद करना होगा। FATF ने चेतावनी दी कि वह आतंकी संगठनों के वित्‍त पोषण या उनकी गतिविधियों को रोकने के प्रयास में कोई छूट नहीं दे रहा है।
वित्‍त पोषण पर जारी रहेगी निगरानी: FATF
वैश्विक संस्‍था ने कहा कि वह कोरोना वायरस संकट के आतंकियों के वित्‍त पोषण पर पड़ने वाले असर की सक्रिय रूप से निगरानी करेगी। इससे पहले कोरोना महासंकट के बीच पाकिस्‍तान ने खुद को FATF की ग्रे सूची से हटाए जाने के लिए बड़ा दांव चला था। पाकिस्‍तान ने पिछले 18 महीने में निगरानी सूची से हजारों आतंकवादियों के नाम को हटा दिया है। पाकिस्‍तान ने यह हरकत ऐसे समय पर की थी जब जून महीने में FATF की बैठक होने वाली थी। हालांकि यह बैठक अब टल गई है।
अमेरिकी अखबार वॉल स्‍ट्रीट जनरल की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्‍तान की नेशनल काउंटर टेररिज्‍म अथार्टी इस लिस्‍ट को देखती है। इसका उद्देश्‍य ऐसे लोगों के साथ वित्‍तीय संस्‍थानों के बिजनेस न करने में मदद करना है। इस लिस्‍ट में वर्ष 2018 में कुल 7600 नाम थे लेकिन पिछले 18 महीने में इसकी संख्‍या को घटाकर अब 3800 कर दिया गया है। यही नहीं इस साल मार्च महीने की शुरुआत से लेकर अब तक 1800 नामों को लिस्‍ट से हटाया गया है। FATF ने पाकिस्‍तान को 27 बिंदुओं पर एक्‍शन लेने के लिए जून तक का वक्‍त दिया है। अगर पाकिस्‍तान 27 बिंदुओं को पूरा करने में असफल रहता है तो FATF उसे काली सूची में डाल सकता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *