यूपी में तनाव बरकरार, टीएमसी नेताओं के लखनऊ पहुंचने पर रोक

लखनऊ। नागरिकता कानून को लेकर यूपी में तनाव की स्थिति बरकरार है। किसी भी तरह की आशंका को देखते हुए पुलिस अलर्ट मोड पर है। इस बीच तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के नेताओं के लखनऊ पहुंचने पर रोक लगा दी गई है। डीजीपी ने कहा कि लखनऊ में धारा 144 लागू है, ऐसे में टीएमसी नेताओं को हम यहां आने की अनुमति नहीं देंगे। उनके यहां आने से तनाव बढ़ सकता है। यूपी डीजीपी ओपी सिंह ने पहले भी दावा किया था कि लखनऊ हिंसा में बाहरी लोगों का हाथ रहा है। इस बीच लखनऊ में 24 दिसंबर तक के लिए स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए हैं।
879 उपद्रवी गिरफ्तार, 282 पुलिस कर्मी जख्मी
राज्य में शनिवार को भी कई जगहों पर हिंसक विरोध-प्रदर्शन हुए। कानपुर और रामपुर में भीड़ ने आगजनी की और पुलिस के साथ झड़प में एक व्यक्ति की मौत हो गई। प्रदेश के विभिन्न जिलों में गुरुवार से चल रही हिंसा में अब तक कम-से-कम 18 लोग मारे जा चुके हैं। यूपी डीजीपी ने कहा, ‘हिंसा की वारदातों में शामिल 879 संदिग्ध उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है। हिंसक प्रदर्शन के दौरान 282 पुलिसकर्मी जख्मी हैं। 135 असामाजिक तत्वों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।’
एक्शन मोड में योगी सरकार
इसके बाद से ही पुलिस एक्शन मोड में है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी कहा है कि कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा। नुकसान की भरपाई के लिए उपद्रवियों के खिलाफ कार्यवाही भी शुरू हो गई है। इस बीच यह जानकारी सामने आई कि टीएमसी के नेता लखनऊ आने वाले हैं। इस पर यूपी पुलिस तुरंत अलर्ट मोड पर आ गई।
‘टीएमसी नेताओं के आने से बढ़ सकता है तनाव’
डीजीपी ओपी सिंह ने कहा, ‘हमें जानकारी मिली है कि टीएमसी के कुछ नेता लखनऊ आना चाहते हैं। हम उन्हें इजाजत नहीं देंगे। यहां धारा 144 लागू है और इनके आने से इलाके में तनाव और बढ़ सकता है।’ इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी शनिवार को धर्माचार्यों और प्रबुद्ध वर्ग से आगे आकर प्रशासन से सहयोग करने की अपील की थ। योगी ने यह भी कहा कि अगर नागरिकता कानून को लेकर किसी के मन में कोई आशंका भी है तो कानून हाथ में लेने के बजाय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के के आश्वासन पर यकीन रखें।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *