Sabarimala मंदिर खुलने से पहले ही तनाव बढ़ा, बेस कैंप में महिलाओं का जमावड़ा

तिरूवनंतपुरम। केरल में मासिक पूजा के लिए भगवान अय्यप्पा का Sabarimala मंदिर कल बुधवार से खुलने जा रहा है परंतु इससे पहले ही Sabarimala मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार माने जाने वाले निलाकल में तनाव जोरों पर है।
बेसकैंप निलाकल में महिलाओं का जमावड़ा लगा हुआ है। आज मंगलवार को भक्तों ने प्रतिबंधित उम्र वर्ग की महिलाओं को लेकर मंदिर की तरफ से जाने वाले वाहनों को रोक दिया।

सुप्रीम कोर्ट के सभी उम्रवर्ग की महिलाओं के प्रवेश से संबंधित हालिया फैसले के बाद पारस्थितिकीय रूप नाजुक पश्चिमी घाट की पर्वत श्रृंखला पर स्थित इस मंदिर को पहली बार बुधवार को खोला जा रहा है। मुख्यमंत्री पी विजयन ने हालांकि बताया कि सबरीमला जाने वाले श्रद्धालुओं को रोकने की अनुमति किसी को नहीं दी जाएगी।

पहाड़ी पर स्थित सबरीमला मंदिर से लगभग 20 किलोमीटर दूर स्थित आधार शिविर निलाकल में परंपरागत साड़ी पहने महिलाओं के समूह को प्रत्येक वाहनों को रोकते देखा जा सकता है। इनमें वरिष्ठ नागरिक भी शामिल हैं।

केरल राज्य पथ परिवहन निगम की बसें भी रोकीं गईं
निजी वाहनों के अलावा श्रद्धालुओं ने केरल राज्य पथ परिवहन निगम की बसें भी रोकीं और उनमें से युवतियों को बाहर निकलने को कहा गया जब इस तरह की घटनाएं हुई तब वहां बहुत कम पुलिसवाले तैनात थे।

एक महिला आंदोलनकारी ने कहा,‘प्रतिबंधित उम्र 10 से 50 साल आयु वर्ग की महिलाओं को निलाकल से आगे नहीं जाने दिया जाएगा और उन्हें मंदिर में पूजा भी नहीं करने दी जाएगी।’ मंदिर को मलयालम थुलाम महीने में पांच दिन की मासिक पूजा के बाद 22 अक्टूबर को बंद कर दिया गया था।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »