साउथ चाइना सी को लेकर चीन और अमेरिका के बीच तनाव बढ़ा

पेइचिंग। चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर पर डील हुए अभी जहां कुछ समय भी नहीं हुआ है वहीं सुमद्री सीमा में पेइचिंग और अमेरिका के बीच भी तनातनी बढ़ गई है।
ताजा मामला साउथ चाइना सी से जुड़ा है और चीन ने अमेरिका पर उकसाने का आरोप लगाया है।
चीन ने आरोप लगाया है कि अमेरिकी जंगी जहाज बिना किसी इजाजत के उसकी सीमा में घुस आए जबकि अमेरिका ने इसे समुद्र में घूमने की आजादी करार दिया है।
अमेरिका पर बिफरा चीन
चीन ने आरोप लगाया है कि अमेरिका साउथ चाइना सी में अमेरिका ने जंगी जहाज भेजकर उकसावे की कार्यवाही की है। दरअसल, अमेरिका का USS मैककैंपबेल जंगी जहाज पारासेल द्वीप के पास से मंगलवार को गुजरा था। मिसाइल हमले को ध्वस्त करने वाले इस जहाज के द्वीप के पास से गुजरने के बाद चीन बिफर गया। पीपल लिबरेशन आर्मी ने बताया कि अमेरिकी जहाज बिना की अनुमति के इस द्वीप के पास से गुजरा था। साउथ चाइना सी में पारासेल द्वीप एक विवादित जगह है। इस पर चीन, ताइवान और वियतनाम सभी अपना दावा करते हैं।
चीन बोला, दादागीरी दिखा रहा है अमेरिका
चीनी सेना के दक्षिणी थिअटर कमांड प्रवक्ता कर्नल ली हुमामिन ने कहा, ‘अमेरिका घूमने की स्वतंत्रता के तहत अपनी दादागीरी दिखाने की कोशिश करता है। साउथ चाइना सी में वॉशिंगटन की यह हरकत उकसावे वाली है। यह कार्यवाही सही नहीं है, इससे अंतर्राष्ट्रीय कानून का उल्लंघन एवं साउथ चाइना सी में स्थायित्व को खतरा पैदा होता है।’ चीनी सेना ने अपने बयान में कहा कि अमेरिकी जंगी जहाज को देखते ही उसे चेतावनी दी गई और उसे जाने को कहा गया।
अमेरिका ने भी की पुष्टि
उधर, US नेवी के 7वें बेड़े ने साउथ चाइना सी में अपने जंगी जहाज को जाने की पुष्टि की है। नेवी ने इसे समुद्र में घूमने की आजादी का मामला बताया। US नेवी के 7वें बेड़े के प्रवक्ता कमांडर रेनन मोम्सन ने बताया कि साउथ चाइना सी में गैरकानूनी दावे से इस क्षेत्र में समुद्री आजादी के लिए खतरा है।
कई देश करते हैं दावा
हाल के वर्षों में चीन ने साउथ चाइना सी में कई कृत्रिम द्वीप बनाकर और सेना की भारी तैनाती कर इस इलाके में तनाव बढ़ाया है। यहां बड़े पैमाने पर नेचुरल ऑयल और गैस रिजर्व का भंडार पाया जाता है। इसके अलावा यह समुद्री परिवहन का सबसे व्यस्त मार्ग भी है। इस क्षेत्र पर इंडोनेशिया, मलयेशिया, फिलीपीन्स और ब्रुनेई भी दावा करते हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *