TDP ने ऐप बनाने में इस्‍तेमाल किया चोरी का आधार डेटा, FIR दर्ज

हैदराबाद। TDP (तेलुगू देशम पार्टी) द्वारा आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के लगभग 7.8 करोड़ लोगों के आधार डेटा का गैर-कानूनी ढंग से इस्तेमाल का मामला सामने आया है। TDP ने इन आंकड़ों का इस्तेमाल अपने लिए एक ऐप बनाने के लिए किया है। यूआईडीएआई ने इस मामले की प्राथमिकी भी दर्ज कराई है।
पुलिस ने यूआईडीएआई की शिकायत पर सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी आईटी ग्रिड्स (इंडिया) के खिलाफ तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के 7.8 करोड़ से अधिक निवासियों का गैर-कानूनी ढंग से आधार डेटा रखने का मामला दर्ज किया है। दोनों राज्यों की आबादी लगभग 8.4 करोड़ है। यह कंपनी आधार डेटा का इस्तेमाल TDP (तेलुगू देशम पार्टी) का सेवा मित्र ऐप डिवेलप करने के लिए कर रही थी।
प्राथमिकी के मुताबिक ये डेटा एक रिमूवेवल स्टोरेज में रखा गया था, जो आधार ऐक्ट का उल्लंघन है। फॉरेंसिक विशेषज्ञों को संदेह है कि कंपनी ने ये डेटा या तो सेंट्रल डेटा रिपॉजिटरी या स्टेट डेटा हब से गैर-कानूनी ढंग से हासिल किए हैं।
सूत्रों ने कहा है कि इस मामले को एसआईटी को स्थानांतरित किया जा सकता है, जो कथित डेटा चोरी के मामलों की जांच कर रही है।
आईटी ग्रिड ऑफिस से मिले हार्ड डिस्कों के विश्लेषण को दौरान तेलंगाना स्टेट फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी ने कहा कि कंपनी के पास तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के 78,221,397 निवासियों के आधार से संबंधित आंकड़े हैं। फॉरेंसिक विश्लेषण में अधिकारियों ने पाया है कि आईटी ग्रिड से मिले डेटाबेस की संरचना और साइज ठीक उसी तरह है, जैसा कि UIDAI के पास होता है।
TDP ने दी सफाई
वहीं, TDP ने सफाई देते हुए कहा है कि आधार के कच्चे डेटा तक उनकी पहुंच नहीं है और उनका इस्तेमाल केवल कल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों की पुष्टि के लिए किया जा रहा था।
एसआईटी की सूचना के आधार पर यूआईडीएआई ने शुक्रवार को माधापुर पुलिस थाने में आधार (टार्गेटेड डिलिवरी ऑफ फाइनैंशल ऐंड अदर सब्सिडीज, बेनिफिट्स ऐंड सर्विसेज) ऐक्ट, 2016 की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कराया।
छापेमारी में मिले थे सबूत
यूआईडीएआई के डिप्टी डायरेक्टर टी. भवानी प्रसाद ने इस शिकायत में कहा, ‘अब तक की जांच से यह सामने आया है कि सेवा मित्र ऐप संदेहास्पद रूप से वोटर प्रोफाइलिंग, टार्गेटेड कंपेनिंग और यहां तक कि मतदाताओं का मतदाता सूची से नाम हटाने के लिए आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के वोटरों की चुराई गई सूचनाओं तथा आधार डेटा का इस्तेमाल कर रहा था। आईटी ग्रिड के ठिकानों पर तलाशी ली गई, जिस दौरान सात हार्ड डिस्क और अन्य डिजिटल सबूतों को जब्त किया गया है।’
TDP के सेवा मित्र ऐप के लिए इस्तेमाल
जब इन गैजेट्स को टीएसएफएसएल के पास जांच के लिए भेजा गया तो उन्होंने अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट में बताया कि उनमें भारी मात्रा में डेटा हैं और उनका व्यापक स्तर पर विश्लेषण करने की जरूरत है।
भवानी प्रसाद ने कहा, ‘टीएसएफएसएल ने स्पष्ट रूप से कहा है कि जब्त किए गए हार्ड डिस्क में भारी तादाद में लोगों के आधार से जुड़े आंकड़े हैं। आगे जांच करने पर पता चला कि उसमें 78,221,397 लोगों के आधार से जुड़े आंकड़े हैं, जिनका इस्तेमाल आईटी ग्रिड्स (इंडिया) ने सेवा मित्र ऐप बनाने के लिए किया।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »