एक घर बेचकर दूसरा घर खरीदने वाले टैक्सपेयर्स को ITAT के फैसले से फायदा

एक घर बेचकर दूसरा घर खरीदने वाले टैक्सपेयर्स को इनकम टैक्स अपीलेट ट्राइब्यूनल (ITAT) की मुंबई बेंच के हालिया फैसले से फायदा होने वाला है।
ITAT ने कहा है कि घर पर कब्जा उसके अलॉटमेंट डेट से माना जाएगा। उसने स्पष्ट किया कि होल्डिंग पीरियड अलॉटमेंट डेट से शुरू होगा, न कि रजिस्ट्रेशन डेट से।
LTCG पर टैक्स से राहत
लॉन्ग-टर्म कैपिटल ऐसेट की बिक्री से प्राप्त लाभ को लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस (LTCG) माना जाता है। वही घर इस कैटिगरी में आते हैं जिनका होल्डिंग पीरियड कम कम-से-कम 24 महीने हो। यानी, किसी टैक्सपेयर ने किसी घर को 24 महीने अपने मालिकाना हक में रखने के बाद बेचा हो, तो उसे इस बिक्री से हुए मुनाफे पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस टैक्स देना होगा। हालांकि, वित्त वर्ष 2017-18 से पहले लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस के लिए समय-सीमा 36 महीने की थी।
यह है कैपिटल गेंस पर टैक्स छूट का नियम
ITAT का यह फैसला इसलिए मायने रखता है क्योंकि टैक्सपेयर को इनकम टैक्स ऐक्ट के सेक्शन 54F के तहत एक घर बेचने से प्राप्त एलटीसीजी पर टैक्स से मुक्ति मिल जाती है, अगर वह निश्चित समय सीमा के अंदर दूसरा घर खरीद ले। दूसरी ओर, अगर घर की बिक्री से हुए लाभ को शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस माना जाता है तो दूसरा घर खरीदने के बावजूद टैक्स छूट नहीं मिलेती है।
ऐसे मिली राहत
अब जब अपीलेट ट्राइब्यूनल ने स्पष्ट किया है कि होल्डिंग पीरियड की शुरुआत अलॉटमेंट डेट से माना जाना चाहिए तो टैक्सपेयर्स फायदा होना तय है क्योंकि रजिस्ट्रेशन, घर आवंटित होने के बहुत बाद होता है। बहरहाल, इनकम टैक्स अपीलेट ट्राइब्यूनल की मुंबई बेंच के पास जो मामला आया, उसमें इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने कहा था कि अलॉटमेंट पेपर महज एक ऑफर है और प्रॉपर्टी का अधिकार एग्रीमेंट पर दस्तखत करने और स्टांप लगने के बाद मिलता है।
I-T डिपार्टमेंट की दलील खारिज
इनकम टैक्स अपीलेट ट्राइब्यूनल ITAT ने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की यह दलील नहीं मानी और अलॉटमेंट डेट से ही होल्डिंग पीरियड की शुरुआत मानने का आदेश दिया। सीएनके ऐंड असोसिएट्स में टैक्स पार्टनर गौतम नायक ने कहा, ‘आईटीएटी ने बिल्कुल सही कहा कि अलॉटमेंट डेट को ही मालिकाना हक प्राप्त होने की तारीख माना जाए क्योंकि रजिस्ट्रेशन में भी अलॉटमेंट से इतर कोई शर्त शामिल नहीं होती है।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *