जेट एयरवेज कर्मचारियों की मदद को आगे आया Tata Group

नई दिल्‍ली। जेट एयरवेज के बेरोजगार हो चुके कर्मचारियों की मदद को Tata Group आगे आया है, हालांकि Tata Group से पहले ही नौकरी के जरिए मदद को देश में कार्यरत अन्य विमानन कंपनियां भी आगे आई थीं। स्पाइसजेट से लेकर के एयर इंडिया और विस्तारा भी कई लोगों को रोजगार दे चुकीं हैं। अब इसी क्रम में Tata Group की एक और कंपनी ने भी जेट के पूर्व कर्मचारियों की मदद का एलान किया है।

होटल इंडस्ट्री में मिलेगी नौकरी
टाटा समूह के ताज होटल ने जेट एयरवेज के पूर्व कर्मचारियों को अपने यहां पर नौकरी देने का एलान किया है। ताज होटल ने कहा है कि वो जेट एयरवेज के केबिन क्रू को अपने यहां नौकरी देगा। फिलहाल यह नौकरियां उन लोगों को मिलेंगी जो मुंबई के रहने वाले है।

ताज कर रहा है विस्तार
ताज समूह का कहना है कि वो विस्तार के चरण में है। प्रत्येक महीने वो एक होटल खोलेगी। फिलहाल पूरे देश में ताज के पास 149 होटल हैं, जिनमें 17,823 कमरे हैं। विस्तार के लिए उसे बहुत से लोगों की आवश्यकता पड़ेगी जिनको होटल, हवाई क्षेत्र और पर्यटन की जानकारी है। ऐसे में जेट एयरवेज के कर्मचारी अपने अनुभव के आधार पर ताज होटल में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

ग्राहकों से करना होगा डील
हालांकि ताज समूह ने यह नहीं बताया है कि वो कितने कर्मचारियों को नौकरी पर रखेगी। इन कर्मचारियों को ग्राहकों से डील करना होगा। ऐसे में इन्हें होटल के रिसेप्शन या फिर रेस्टोरेंट में आसानी से नौकरी दी जा सकती है।

जेट ने इन कंपनियों से की बात
रिपोर्ट के अनुसार जेट के एक वरिष्ठ अधिकारी राहुल तनेजा अपनी प्रतिद्वंद्वी कंपनियों से और ई-कॉमर्स कंपनियों से अपने कर्मचारियों को नौकरी देने के लिए बात कर रहे हैं। तनेजा ने विस्तारा एयरलाइंस, स्पाइसजेट और अमेजन कंपनी से बात की है।

इन कंपनियों ने की थी मदद
हाल ही में स्पाइसजेट और विस्तारा ने जेट एयरवेज के कर्मचारियों की मदद करने के लिए हाथ आगे बढ़ाया था। विस्तारा ने जेट के 550 कर्मियों को नौकरी पर रखा था, इनमें से 100 पायलट हैं। वहीं जेट एयरवेज ने अपने सभी कर्मचारियों के लिए मेडिक्लेम सुविधा को बंद कर दिया है। इसके अलावा विस्तारा और एयर एशिया जल्द ही जेट एयरवेज के खड़े हो चुके विमानों को अपने बेड़े में शामिल कर लेगी।

केबिन क्रू को किया शामिल
टाटा समूह के स्वामित्व वाली एयर विस्तारा ने जेट एयरवेज के 450 केबिन क्रू स्टाफ को अपने यहां पर नौकरी दी है। फिलहाल एयर इंडिया, स्पाइसजेट और गो एयर कर्मचारियों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। एयर एशिया जेट एयरवेज के बोइंग 737 को अपने बेड़े में शामिल कर लिया है।

मेडिक्लेम सुविधा को किया बंद
भारी नकदी संकट से डूबने की कगार पर पहुंची निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी जेट एयरवेज अपने 20,000 से अधिक कर्मचारियों की अब मेडिक्लेम सुविधा भी बंद कर दी है। एयरलाइन ने कर्मचारियों से कहा है कि वह समूह मेडिक्लेम पॉलिसी का प्रीमियम भरने की स्थिति में नहीं है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »