यौन उत्पीड़न मामले में तरुण तेजपाल गोवा के सेशन कोर्ट से बरी

तहलका पत्रिका के संस्थापक संपादक तरुण तेजपाल को यौन उत्पीड़न मामले में गोवा के सेशन कोर्ट ने बरी कर दिया है. 2013 में उनकी एक सहकर्मी ने यौन हमले का आरोप लगाया था.
तरुण तेजपाल पर आरोप था कि उन्होंने गोवा के बंबोलिम में ग्रैंड हयात होटल के लिफ्ट के भीतर सात नवंबर, 2013 को अपनी सहकर्मी से जबर्दस्ती की कोशिश की थी.अतिरिक्त सेशन जज क्षमा जोशी ने पिछले महीने सुनवाई के बाद अपना फ़ैसला सुरक्षित रख लिया था. तरुण तेजपाल को उनकी सहकर्मी की शिकायत पर 18 नवंबर, 2013 को गिरफ़्तार किया गया था.
अगस्त 2019 में तरुण तेजपाल में सुप्रीम कोर्ट में अपने ऊपर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों को ख़त्म करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में किसी भी तरह की राहत देने से इनकार कर दिया था.
तरुण तेजपाल के वकील राजीव गोम्स की पिछले हफ्ते ही कोविड संक्रमण से मौत हो गई थी. तरुण तेजपाल ने बयान जारी कर अपने वकील के प्रति आभार जताया है.
तरुण तेजपाल ने कहा है कि ”एक परिवार के नाते, हम पर राजीव गोम्स का बहुत बड़ा क़र्ज़ है. कोई भी क्लाइंट राजीव से बेहतर वकील की उम्मीद नहीं कर सकता है. इन आठ सालों में कई शानदार वकील हमारी मदद के लिए आगे आए और मैं उन सबका क़र्ज़दार हूँ. इनमें प्रमोद दुबे, आमिर ख़ान, अंकुर चावला, अमित देसाई, कपिल सिब्बल, सलमान खुर्शीद, अमन लेखी, संदीप कपूर, राजन कारंजेवाला और श्रीकांत शिवाडे के प्रति मैं विशेष रूप से आभारी हैं.”
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *