तमिलनाडु पुलिस ने Yogendra Yadav को गिरफ्तार किया

नई दिल्ली। Yogendra Yadav को तमिलनाडु के तिरुवन्नमलाई में किसानों के आंदोलन में शामिल होने पर हिरासत में ले लिया गया। उन्होंने ट्वीट कर अपने ऊपर हुई पुलिस के ज्यादतियों के बारे में बताया।

स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव को शनिवार को तिरुवन्नमलाई जिले में चेंगम में तमिलनाडु पुलिस ने हिरासत में ले लिया। वो 8 लेन मार्ग चेन्नई-सेलम एक्सप्रेसवे परियोजना के खिलाफ प्रदर्शन में शामिल हुए थे। उनके साथ विरोध करने वाले अन्य किसानों को भी हिरासत में लिया गया है। एक के बाद एक कई ट्वीटस कर उन्होंने कहा कि उनके साथ हाथापाई की गई और पुलिस वैन में धकेला गया।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘पुलिस ने मुझे और टीम को चेंगम पीएस, तिरुवन्नमलाई जिले में हिरासत में लिया गया है। हम ‘8 लेन मार्ग के खिलाफ आंदोलन’ में शामिल होने आए थे। हमें किसानों से मिलने से रोका गया, हमारा फोन छीना गया, हाथापाई की गई और पुलिस वैन में धकेला गया।’

उन्होंने एक और ट्वीट में कहा कि मैंने मिस्टर कंदासामी, कलेक्टर, तिरुवन्नमलाई से 8 लेन मार्गों के लिए पुलिस निकायों के अधिग्रहण और शिकायत के बारे में बात की। उन्होंने पूरी तरह से किसी भी पुलिस हस्तक्षेप से इंकार कर दिया। फोन कॉल के कुछ मिनटों के भीतर पुलिस ने हमें हिरासत में लिया।

एक और ट्वीट में उन्होंने कहा कि 4 घंटे हो गए, हमें अभी भी इस विवाह हॉल के अंदर बंद कर रखा है। कोई औपचारिक आदेश नहीं, कोई मौखिक जानकारी भी नहीं है कि हम हिरासत में हैं या गिरफ्तार हैं। 9 किसान जो आज सुबह मुझसे मिले थे उन्हें हिरासत में लिया गया। और 40 किसान मुझसे मिलने का इंतजार कर रहे थे, उन्हें भी हिरासत में ले लिया गया। कानून का राज? या पुलिस राज?

किसान चेन्नई और सलेम से जुड़े 8 लेन वाले राजमार्ग का निर्माण करने के लिए एक परियोजना के खिलाफ विरोध कर रहे हैं। योगेंद्र यादव इस बात की जांच कर रहे थे कि क्या किसान वास्तव में परियोजना के लिए अपनी जमीन छोड़ना चाहते हैं या अगर उन्हें पुलिस द्वारा दबाया जा रहा है। यादव ने कहा कि उन्होंने यात्रा के लिए जिला मजिस्ट्रेट से अनुमति प्राप्त की थी।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »