शिक्षा-क्षेत्र में रचनात्मक परिवर्तन किए बिना अनुशासित युवा पीढ़ी का विकास संभव नहीं

भीड़ में बदलकर युवा-शक्ति का दुरुपयोग करती यह कैसी शिक्षित पीढ़ी है, जिसमें  न अपने उत्तरदायित्व का भान है ;

Read more

लोकतंत्र का भविष्य समन्वय में है संघर्ष में नहीं

लोकतंत्र में प्रयुक्त ‘लोक‘ शब्द अपने अपार विस्तार में समस्त संकीर्णताओं से मुक्त है । ‘लोक’ जाति-धर्म-भाषा-क्षेत्र-वर्ग आदि समूह की

Read more
Translate »