सनातन धर्म में तो सेवा ही है धर्म का आधार और सार

सभी धर्मों में “सेवा” के महत्व का बहुत ही विस्तार से उल्लेख है। सनातन धर्म में तो सेवा को धर्म

Read more

अगर धर्म नहीं होता तो कोई ”बुद्ध” भी नहीं होता

ओशो ने एक अनुयायी को कैंसरग्रस्त उसके करीबी दोस्त के लिए चिंतित पर कहा क‍ि – केवल एक ध्यानी ही

Read more