एक याद: पाकिस्‍तानी शायर हबीब जालिब जिन्‍होंने कभी लिखा था- भए कबीर उदास

‘मेरी बेटी मैं रहूं न रहूं. आने वाला जमाना है तेरा.’ लिखने वाले पाकिस्‍तानी शायर हबीब जालिब ऐसे एक्टिविस्ट थे

Read more