जोहानिसबर्ग: कल जहां बसती थीं ख़ुशियां, आज है मातम वहां…

कल जहां बसती थीं ख़ुशियां, आज है मातम वहां वक़्त लाया था बहारें, वक़्त लाया है ख़िजां. साहिर की लिखी

Read more